चूने का पानी बच्चो को दूध न पचना, दूध फेंकना, बार-बार पोटी आने का रामबाण नुस्खा

Spread the Knowledge
50% LikesVS
50% Dislikes

चूने का पानी बनाने की विधि, चूने का पानी पीने के फायदे के साथ जानिए और उसके सेवन की विधि | बच्चो को दूध न पचना, दूध फेंकना, बार-बार पोटी आने का रामबाण नुस्खा है चुने का पानी |

चूने का पानी पीने के फायदे आपको तभी मिलेंगे जब आप चूने का पानी सही तरीके से बनाये क्योकि चुने का पानी बच्चो की अनेको बिमारिओ में अमृत की तरह लाभदायक होता है। बच्चे का जिगर खराब हो, पुष्ट न हो, बालक माँ का दूध फेकता हो, अजीर्ण या बदहजमी के दस्त और अम्लता से पैदा हुई वमन या उलटी हो तो उसे चूने का पानी पिलाने से लाभ होता है। इसके सेवन से बच्चे निरोग एवं हुष्ट-पुष्ट बनते है, उसका हाजमा ठीक रहता है।

चूने का पानी बनाने की विधि ( लाइम वाटर) | Chune ka Pani ka Formula

चूने का पानी (लाइम वाटर) बनाने की विधि जानने से पहले आइये जानते है चूने के पानी (लाइम वाटर) का सेवन करने की विधि के बारे में :-

चूने के पानी (लाइम वाटर) का सेवन करने की विधि

  • 1 साल से कम उम्र के बच्चे को जितने महीने का बच्चा हो उतनी ही बूंदों के रूप में यह चूने का पानी (लाइम वाटर) दो चम्मच दूध में एक बूंद चूने का पानी (लाइम वाटर) के हिसाब से मिलाकर सुबह-शाम पिलाएं |
  • 1 साल से लेकर 8 साल तक के बच्चों को आधा कप पानी या दूध में 15 से 20 या चौथाई से आधा चम्मच चूने का पानी दिन में दो बार दूध के साथ पिलाते रहे |
  • बालकों में छोटे बच्चों में दूध के विकार मतलब दूध पीने पर होने वाली बीमारियों को मिटाने के लिए रामबाण नुस्खा है |
  • बताई गई विधि के अनुसार चूने के पानी (लाइम वाटर) का सेवन करने से 5 से 7 दिन में ही बालक की हालत में सुधार होने लगता है | इतना ही नहीं बच्चे के दांत भी आसानी से निकलते हैं |

चूने का पानी बनाने की विधि | Chune Ka Pani Bnane Ki Vidhi

  1. मिट्टी के बर्तन में 60 ग्राम बिना बुझे हुए चूने की डालकर, उसमें 20 गुना यानी तकरीबन 1 किलो 200 ग्राम पानी मिला दे |
  2. दिन में एक-दो बार लकड़ी से हिला भी दें ताकि चूना अच्छे से घुल जाए |
  3. फिर 24 घंटो के बाद बीच का साफ पानी निथार कर, किसी कपड़े से छान कर, बोतल में भर ले |
  4. ध्यान रहे कि बीच में बैठा हुआ चूना हिले नहीं और ऊपर वाली तह पर जमी हुई पपड़ी भी पहले उतार लेनी चाहिए | यही लाइम वाटर ( चूने का पानी ) है |
  5. आप चाहें तो इस में 120 ग्राम पिसी हुई मिश्री डालकर इसे मीठा भी कर सकते हैं ताकि बच्चे को इसका स्वाद पसंद है |
  6. तो दोस्तों यह थी लाइम वाटर यानि चूने का पानी बनाने की विधि और उसके सेवन की विधि |

चूने का पानी पीने के फायदे | Chune Ka Pani Peene Ke Fayde

बच्चे के दूध की उलटी करने के कारण और घरेलु उपाय

चूने का पानी बनाने की विधि, चूने का पानी पीने के फायदे

मां का दूध बच्चे के लिए अमृत के समान गुणकारी होता है | मगर कुछ छोटे बच्चो का हाजमा या पाचन क्रिया इतनी खराब होती है की वह मां का दूध भी हजम नहीं कर पाते और दूध पीने के बाद या तो दूध को निकाल देते हैं या दस्त करने लगते हैं | कई बच्चे तो दिन में कई-कई बार पॉटी करते हैं |

  • हम आपको बच्चों को दूध ना पचने या बदहजमी के कारण होने वाले दस्त और अम्लता यानी एसिडिटी से पैदा हुई वमन यानी उल्टी को दूर करने के साथ -साथ बच्चों को हष्ट पुष्ट बनाने और बच्चों की पाचन क्रिया को ठीक करने में रामबाण चूने का पानी बनाने की विधि और उसके सेवन करने का तरीका बताने जा रहे हैं |
  • चूने का पानी (लाइम वाटर) बच्चों के लिए अमृत के समान लाभकारी होता है |
  • इसके सेवन से बच्चे निरोग और हष्टपुष्ट बनते हैं |
  • अगर बच्चे का जिगर खराब या कमजोर हो गया हो या बच्चा माँ का दूध भी न पचा पाता हो तो उसे चूने का पानी (लाइम वाटर) पिलाने से लाभ होता है |
  • बच्चे का हाज़मा ठीक रहता है और अजीर्ण या बदहज़मी के कारण होने वाले दस्त और एसिडिटी से पैदा हुई वमन यानि उल्टी, चूने के पानी के सेवन करने से ही से दूर हो जाती है |
  • इससे बच्चे में कैल्शियम की कमी से होने वाले अनेक रोगों से बचाव होता है और बच्चे हृष्ट पुष्ट बनते हैं |

छोटे बच्चो की कब्ज के कुछ अनसुने कारण और उन्हें दूर करने के उपाय

Articles You May like To Read:-

छोटे बच्चो की कब्ज के कुछ अनसुने कारण और उन्हें दूर करने के उपाय
छोटे बच्चो की कब्ज के कुछ अनसुने कारण और उन्हें दूर करने के उपाय
छोटे बच्चो की कब्ज के कुछ अनसुने कारण और उन्हें दूर करने के उपाय छोटे बच्चे हंसते, मुस्कुराते, किलकारियां मारते ...
Read More
बच्चे के दूध की उलटी करने के कारण और घरेलु उपाय
बच्चे के दूध की उलटी करने के कारण और घरेलु उपाय छोटे बच्चे अक्सर दूध पीने के बाद उलटी कर ...
Read More
1 से 3 साल || छोटे बच्चो की कब्ज का घरेलु इलाज || cure baby’s constipation at home || gharelu ilaj
छोटे बच्चों के कब्ज का घरेलू इलाज बड़े ही नहीं छोटे बच्चे भी कब्ज की परेशानी का शिकार होता है ...
Read More
चूने का पानी बच्चो को दूध न पचना, दूध फेंकना, बार-बार पोटी आने का रामबाण नुस्खा
चूने का पानी बनाने की विधि, चूने का पानी पीने के फायदे के साथ जानिए और उसके सेवन की विधि ...
Read More
0 से 3 साल के बच्चो को क्या खिलाये
0 से 3 साल के बच्चो को क्या खिलाये || Recipes और कुछ टिप्स || Baby Food Recipe and Tips In Hindi
0 से 3 साल के बच्चो को क्या खिलाये, Recipes और कुछ टिप्स || Baby Food Recipe and Tips In ...
Read More
1 से 3 साल के बच्चे को क्या खिलाये || खाने की आदत कैसे डाले
1 से 3 साल || बच्चे को क्या खिलाये || खाने की आदत कैसे डाले || बच्चा खाना नहीं खाता ...
Read More
नवजात शिशु की देखभाल करते वक्त ध्यान रखने योग्य बातों की जानकारी
नवजात शिशु की देखभाल कैसे करें? नवजात शिशु की देखभाल करते वक्त ध्यान रखने योग्य बातों की जानकारी नवजात शिशु ...
Read More
बच्चों के रोने का कारण और उनको संभालने के उपाय
बच्चों के रोने का कारण और उनको संभालने के उपाय नवजात शिशु में फरिश्तों के समान होते हैं | शहद ...
Read More

1 से 3 साल || छोटे बच्चो की कब्ज का घरेलु इलाज || cure baby’s constipation at home || gharelu ilaj

0 से 3 साल के बच्चो को क्या खिलाये || Recipes और कुछ टिप्स || Baby Food Recipe and Tips In Hindi

नवजात शिशु की देखभाल करते वक्त ध्यान रखने योग्य बातों की जानकारी

1 से 3 साल के बच्चे को क्या खिलाये || खाने की आदत कैसे डाले

पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय

कमर दर्द का इलाज

आम || Aam ke fayde || Uses and Benefits of Mango in Hindi

लहसुन के फायदे, विभिन्न रोगों में उपयोग की विधि | Uses and Health Benefits of Garlic in Hindi

अनार के फायदे और विभिन्न रोगो में प्रयोग की विधि की जानकारी

1 thought on “चूने का पानी बच्चो को दूध न पचना, दूध फेंकना, बार-बार पोटी आने का रामबाण नुस्खा”

Leave a Comment