अलसी के बीज इस्तेमाल करने के 12 तरीके || महिलाओ के लिए अलसी के फायदे || अलसी के सेवन के दौरान कुछ जानने वाली महत्वपूर्ण बातें

इस लेख में हम alsi ke fayde की जानकारी देने जा रहे है। अलसी के बीज शरीर के लिए जरुरी बहुत से पोषक तत्वों से भरपूर होते है और शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होते है। अलग-२ रोगो में अलसी के फायदे ( Alsi ke Fayde ) का पूरा लाभ उठाने के लिए आपको यह पता होना चाहिए की अलसी का उपयोग कैसे करें ?, अलग-२ रोगो में लाभ के लिए अलसी खाने का तरीका क्या है ?

अलसी का उपयोग बहुत से रोगो को दूर करने के लिए किया जा सकता है। अलसी को आप कच्चा खा सकते है, इसे भूनकर इसका सेवन कर सकते हैं, इसे पीसकर पाउडर के रूप में भी इसका सेवन कर सकते हैं। रात को अलसी भिगोकर, सुबह इसके पानी का सेवन कर सकते है या इसकी चाय बनाकर भी इसका सेवन किया जा सकता है। अलग-२ रोगो में लाभ पाने के लिए अलसी खाने का तरीका अलग-२ है। आइये जानते है अलसी के सेवन के कुछ तरीके।

अलसी के बीज

अलसी (Alsi or Tisi or Flex Seeds) की फसल सारे भारत में बहुतायत में पैदा होती है | अलसी के बीज (Alsi or Tisi or Flex Seeds) चिकने होते हैं | आयुर्वेदिक मतानुसार अलसी मधुर, बल को बढ़ाने वाली, पित्त का नाश करने वाली, पीठ के दर्द और सूजन को मिटाने वाली है |

अलसी में पाए जाने वाले पोषक तत्व

अलसी में कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, जिंक, केरोटिन, थायमिन, राइबोफ्लेविन और नियासिन, अल्फा लिनोलेनिक एसिड (ए.एल.ए) नाम का ओमेगा ३ वसा अम्ल, लिनोलक एसिड, लिगनेन, प्रोटीन, विटामिन सी, विटामिन ई व फाइबर पाए जाते हैं ।

अलसी खाने का तरीका अलसी का उपयोग कैसे करें
Alsi ke Fayde in Hindi

Alsi Ke Fayde In Hindi || अलसी खाने के फायदे

अलसी ( Alsi Ke Fayde ) गनोरिया, नेफ्राइटिस, अस्थमा, सिस्टाइटिस, कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, कब्ज, बवासीर, त्वचा की बीमारियों एक्जिमा, सोराइसिस के उपचार में उपयोगी होने के साथ-साथ नाख़ून और बालो को स्वस्थ रखता है और आँखों, मस्तिष्क व नर्वस सिस्टम की कार्य प्रणाली में मदद करता है । अलसी के बीज मानसिक तनाव दूर करने और लाल रक्त कणों के कार्य में सहायक होते है | अलसी के बीज ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर को नियंत्रण में रखते है साथ ही यह एक बेहतरीन एंटी ऑक्सीडेंट भी होते है |

अलसी के बीज चयापचय की दर को बढ़ाता है एवं यकृत को स्वस्थ रखता है । प्राकृतिक रेचक गुण होने से पेट साफ रख कब्ज से मुक्ति दिलाता है ।

चरक के मतानुसार अलसी फोड़ों को पकाने की एक प्रसिद्ध औषधि है | अलसी के बीज को पानी में पीसकर उसमें थोड़ा सा जौ का सत्तू मिलाकर खट्टी दही के साथ लेप करने से फोड़ा पक जाता है |

अलसी खाने का तरीका | अलसी के बीज इस्तेमाल करने के 12 तरीके | अलसी का उपयोग कैसे करें | Alsi Khane ka Trika

अलग-२ रोगो में अलसी के पूरे लाभ पाने के लिए अलसी के बीज खाने का तरीका (Alsi Khane ka Tarika) अलग-२ है। आइये जानते है किस रोगमें अलसी का सेवन कैसे करना चाहिए और अलसी का उपयोग (Alsi ka Upyog) करने के तरीके।

  1. अलसी के बीज को धीमी आंच पर हल्का सा भून कर मिक्सर में हल्का सा यानि दरदरा पीस कर किसी एयर टाइट डिब्बे में भरकर रख लें । रोज सुबह-शाम एक-एक चम्मच पावडर पानी के साथ लें । इसे सब्जी में, दाल में या जूस में मिलाकर भी लिया जा सकता है । इसे अधिक मात्रा में पीस कर नहीं रखना चाहिए, क्योंकि यह खराब होने लगती है इसलिए थोड़ा-थोड़ा ही पीस कर रखें ।
  2. एक चम्मच अलसी पावडर को 360 मिलीलीटर पानी में तब तक धीमी आंच पर पकाएं जब तक कि यह पानी आधा न रह जाए । थोड़ा ठंडा होने पर शहद या शक़्कर मिलाकर सेवन करें । सर्दी, खांसी, जुकाम में यह चाय दिन में दो-तीन बार सेवन की जा सकती है । अस्थमा में भी यह चाय बड़ी उपयोगी है । अलसी की चाय सूखी खाँसी, गल- नालियों की सूजन और फेफड़ों के कुछ हिस्से की सूजन में लाभदायक है |
  3. अलसी के बीजों को गर्म पानी में उबालकर इसके साथ एक तिहाई भाग मुलेठी का चूर्ण मिलाकर काढ़ा बनाकर पीने से यूरिन संबंधी बीमारियों में फायदा होता है |
  4. जिन लोगो को अस्थमा है उनके लिए एक और नुस्खा भी है । एक चम्मच अलसी पावडर आधा गिलास पानी में सुबह भिगो दें । शाम को इसे छानकर पी लें, फिर शाम को भिगोकर सुबह सेवन करें । ध्यान रहे की कांच का गिलास ही इस्तेमाल करे ।
  5. अलसी की पुल्टिस नासूर, फोड़ों और वायु नलियों के प्रदाह जैसी व्याधियों में लाभ पहुँचाती है | अलसी की पुल्टिस गठिया रोग में होने वाले दर्द और सूजन को दूर करती है |
  6. अलसी का सेवन भोजन के पहले या भोजन के साथ करने से पेट भरने का एहसास होकर भूख कम लगती है। इसके रेशे पाचन को सुगम बनाते हैं, इस कारण वजन नियंत्रण करने में अलसी सहायक है।
  7. क्षय रोग होने पर एक ओंस अलसी के बीज पीसकर रातभर ठण्डे पानी में भिगो कर रखें, सुबह इस पानी को छान कर इसमें निम्बू का रस मिलाकर पीना चाहिए |
  8. सुजाक रोग में अलसी के बीजों के चूर्ण में मिश्री मिलाकर फंकी देने से व इसके तेल की 5 बूँद मूत्रेन्द्रिय के छेद में डालने से सुजाक रोग ठीक होता है |
  9. अलसी के तेल में सौंठ का चूर्ण डालकर गर्म करके मालिस करने से पीठ का दर्द ठीक होता है |
  10. अलसी की राख को गुदा के घाव पर लगाने से घाव भर जाता है |
  11. खाँसी को ठीक करने के लिए अलसी की बीजों को सेंककर चूरन बनाकर शहद के साथ चाटने से आराम होता है |
  12. खाँसी और गुर्दे की तकलीफ में अलसी बहुत लाभदायक है | इसकी छाल और पत्ते सुजाक के लिए उत्तम है | इसकी छाल को जलाकर यदि घाव पर लगाया जाए तो यह रक्त को बहने से रोकती है और घाव को जल्दी भर देती है | अलसी के फूल दिमाग व हृदय को बल देने वाले है |

महिलाओ के लिए अलसी के फायदे | Mahilao ke
Liye Alsi ke Fayde

  • मनोपॉज़ के बाद इस्ट्रोजन का बनना कम हो जाने से महिलाओं में हॉट फ्लेशेज, ओस्टियोपोरोसिस जैसी कई परेशानियां होती है | जीवन के इस पड़ाव में अलसी में पाया जाने वाला लिगनेन बहुत राहत देता है | अलसी के बीज प्राकृतिक रूप से लेग्जेटिव का काम करते हैं |
  • गर्भावस्था में अलसी खाने से मां के शरीर को पर्याप्त ओमेगा-3 मिलता है | जो शिशु की आंखों व मस्तिष्क के समुचित विकास के लिए जरूरी है |
  • अलसी खाने से ब्रेस्ट फीड करवाने वाली मां में दूध अधिक बनता है | कई महिलाएं बेबी बर्थ के बाद मोटापे का शिकार हो जाती है पर अलसी के बीज से मिलने वाला लिगनेन ऐसा नहीं होने देता |

अलसी के सेवन के दौरान कुछ जानने वाली महत्वपूर्ण बातें

  1. क्या आप जानते हैं कि अलसी का सेवन त्वचा पर बढ़ती उम्र के असर को कम करता है । अलसी एक बेहतरीन ब्यूटी प्रोडक्ट है | यह त्वचा में अंदर से निखार लाता है | त्वचा की बीमारियों जैसे मुंहासे, एग्जिमा, दाद, खाज, सूखी त्वचा, खुजली, बालों का सूखा व पतला होना, बाल झड़ना आदि में काफी असर कारक होता है |
  2. अलसी सेवन के दौरान पानी खूब पीना चाहिए। इसमें फायबर अधिक होता है, जो पानी ज्यादा मांगता है ।
  3. अलसी खाने से कुछ लोगों को शुरुआत में कब्ज हो सकती है | ऐसा होने का कारण यह है की इसमें फायबर अधिक होता है, जो पानी ज्यादा मांगता है इसलिए ऐसा होने पर पानी ज्यादा पिएं |
  4. अलसी खून को पतला करती है इसलिए यदि आपको ब्लड प्रेशर की समस्या हो तो इसके सेवन से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर कर लें |

यह थी अलसी को कैसे खाए, अलसी खाने का समय, अलसी खाने का तरीका (Alsi Khane Ka Trika), अलसी, अलसी के चमत्कार, अलसी के फायदे (Alsi ke Fayde), अलसी के असरकारी नुस्खे, खाली पेट अलसी खाने के फायदे, अलसी खाने के फायदे (Alsi Khane ke Fayde), अलसी के बीज इस्तेमाल करने के 12 तरीके, अलसी का उपयोग कैसे करें (Alsi Ka Upyog), अलसी खाने का तरीका, महिलाओ के लिए अलसी के फायदे, अलसी के सेवन के दौरान कुछ जानने वाली महत्वपूर्ण बातों की जानकारी |

Specially For You :-

ज्यादा मीठा खाने के नुकसान
ज्यादा मीठा खाने के नुकसान
ज्यादा मीठा खाने के नुकसान (Jyada Mitha Khane Ke Nuksan) - मीठा सभी को पसंद होता है लेकिन अधिक मात्रा ...
Read More
खीरे का जूस के फायदे
खीरे का जूस के फायदे
खीरे का जूस के फायदे (Kheere ka Juice) - क्या आप जानते है की खीरे का रस का सेवन करने ...
Read More
सुबह खाली पेट दही खाने के फायदे
सुबह खाली पेट दही खाने के फायदे
सुबह खाली पेट दही खाने के फायदे (Khali Pet Dahi Khane Ke Fayde) - कुछ लोग आपको यह सलाह देते ...
Read More
शुगर में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए
शुगर में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए
डायबिटीज यानि शुगर में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए (Sugar me kon sa fal nahi khana chahiye)- एक गलत ...
Read More
शुगर में मटन खाना चाहिए या नहीं
डायबिटीज यानि शुगर में मटन खाना चाहिए या नहीं
शुगर में मटन खाना चाहिए या नहीं (Sugar Patients Can Eat Mutton in Hindi) - अगर आप मीट खाने के ...
Read More
प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं
जानिए प्रेग्नेंसी में क्या खाएं और क्या नहीं
प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं (Pregnancy me kya khana chahiye or kya nahi) - एक गर्भवती स्त्री ...
Read More

पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय

कमर दर्द का इलाज

आम || Aam ke fayde || Uses and Benefits of Mango in Hindi

लहसुन के फायदे, विभिन्न रोगों में उपयोग की विधि | Uses and Health Benefits of Garlic in Hindi

अनार के फायदे और विभिन्न रोगो में प्रयोग की विधि की जानकारी

Our YouTube Channel is -> A & N Health Care in Hindi
https://www.youtube.com/channel/UCeLxNLa5_FnnMlpqZVIgnQA/videos

Join Our Facebook Group:- Ayurveda & Natural Health Care in Hindi —-
https://www.facebook.com/groups/1605667679726823/

DMCA.com Protection Status