|| Vertigo || और उसे लेने की विधि :-

दोस्तों आज मैं आपको अपने एक दोस्त के बारे में बताने जा रहा हूं जो चक्कर आने की बीमारी से पीड़ित था | जब उसे पहली बार चक्कर आए तब डॉक्टरों ने उसके चक्कर आने का कारण BP Low हो जाना बताया और उसकी दवाई दी | जिससे उसके चक्कर कुछ दिनों के लिए बंद हो गए |मगर कुछ दिन के बाद उसे दोबारा चक्कर आए और चक्कर आने पर उसने तुरंत ही अपना BP चेक करवाया जो कि नॉर्मल निकला |

अब उसे कारण बताया गया सर्वाइकल | मालिश, व्यायाम और कुछ दवाइयों से के इस्तेमाल से कुछ दिनों तक तो उसे आराम रहा, मगर कुछ दिनों के बाद दोबारा चक्कर आने लगे |मालिश और व्यायाम से इस बार कुछ भी फर्क नहीं पड़ा और इस बार चक्कर लेटने पर, बैठने पर, चलने पर और पूरे दिन हर वक्त आने लगे |

मुझे जब उसकी चक्कर आने की बीमारी के बारे में पता लगा तो मैंने उसे एक तो उसे घरेलू आयुर्वेदिक उपचार और उसे लेने की विधि के बारे में बताया |

पहली खुराक लेने से मात्र से ही उसे बहुत आराम मिला और मेरे पास मौजूद जानकारी के अनुसार 7-8 दिन लगातार लेने से पूरी तरह ठीक हो चुका है |

दोस्तों,

हम आपको Vertigo || और उसे लेने की विधि के बारे में बताने जा रहे हैं :-

आयुर्वेदिक उपचार के लिए तीन चीजों की आवश्यकता है :-
1) सूखा आंवला जिसकी गुठली निकली हो |
2) सूखा धनिया (आधा कुटा हुआ)
3) मिश्री

दोस्तों,

सूखे आंवले और कटे हुए सूखे धनिया को बराबर मात्रा में (तकरीबन 6 ग्राम ) लेकर उसे अच्छे से धोकर साफ करके एक गिलास पानी में भिगोकर रात भर के लिए रख दें | सुबह-सुबह आंवले और धनिए को उसी पानी में मसल कर उस पानी को छान ले |

अब इस पानी में अपने स्वाद के अनुसार मिश्री मिलाकर सुबह-सुबह खाली पेट पीने से एक ही दिन मैं आराम महसूस होगा और 3-4 दिन में ही आपका सर घूमना और चक्कर आना बिल्कुल ठीक हो जाएगा मगर आपको यह पानी 7 से 8 दिन तक लगातार लेना जिससे कि यह चक्कर आने की बीमारी दोबारा ना हो |

तो दोस्तों यह है || Vertigo || और उसे लेने की विधि |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *