मेथी दाने – जोड़ो के दर्द से आराम पाने का प्रभावशाली और आसान उपाय और किसे मेथी दाना नहीं खाना चाहिए :-

मेथी दाने के इस्तेमाल से जोड़ों के दर्द से आराम पाने की विधि जानने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बातें जानना जरूरी है:-

मेथी दाना अपने विभिन्न गुणों और एंटीऑक्सीडेंट एंड इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज के कारण गठिया से परेशान लोगों के लिए अमृत के समान गुणकारी है | मेथी दाने की Anti-Bacteriel Propety और शरीर में होने वाली सूजन को दूर करने के गुणों के कारण यह जोड़ों के दर्द से आराम पाने की एक प्रभावशाली औषधि है | मगर इसका इस्तेमाल करने से पहले यह जान ले की किन लोगो को इसका उपयोग नहीं करना चाहिए :-

1) पित्त प्रकृति वालो को या जिन्हे रक्तपित, रक्तप्रदर, खुनी बवासीर, नकसीर, मूत्र मैं रक्त आना या शरीर में कही से भी खून गिरने की शिकायत हो उन्हें मेथी का प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि मेथी उष्ण और खुश्क होती है | तेज गर्मी के मौसम में मेथी का प्रयोग उचित नहीं है |
2) जिन लोगों को गर्म तासीर की वस्तुएं अनुकूल नहीं पड़ती हैं तथा जिनके शरीर में दाह अथवा आग की लपटों जैसी जलन महसूस होती हो उन्हें भी मेथी दाने का प्रयोग नहीं करना चाहिए |
3) जो अत्यंत दुर्बल व कृशकाय हो, चक्कर आने की बीमारी से पीड़ित हो तथा लगातार धातु क्षय के कारण जिनका शरीर सूखकर मात्र हड्डियों का पिंजर रह गया उन्हें भी मेथी दाने का प्रयोग नहीं करना चाहिए |

अब आपको बताते हैं कि जोड़ों के दर्द को दूर करने के लिए मेथी दाने के प्रयोग के सबसे आसान और प्रभावशाली इलाज की विधि :-

1) रोजाना एक चम्मच मेथी दाने को सुबह-२ खाली पेट चबा-२ कर खा लीजिये और उसके बाद एक गिलास गर्म पानी ऊपर से पी लीजिए |

2) रात को एक चम्मच मेथी दाने को एक गिलास पानी में भिगोकर रख दीजिए और अगले दिन सुबह उस भीगे हुए मेथी दाने को चबा-चबा कर खा लीजिए और ऊपर से एक गिलास गर्म पानी पी लीजिए | यह काम भी आपको तब तक करना है जब तक कि आप को जोड़ों के दर्द या गठिआ में आराम नहीं आ जाता |

3) जो लोग मेथी दाने को चबा नहीं सकते या चबाना नहीं चाहते वह मेथी दाने को मिक्सचर में पीस कर उसका पाउडर बना ले और सांयकाल में आधा चम्मच मेथी दाने के पाउडर को गर्म पानी के साथ निगल ले | यह काम आप को रोजाना तब तक करना है जब तक आपको जोड़ों के दर्द या गठिया में आराम नहीं आ जाता |

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *