बच्चे के दूध की उलटी करने के कारण और घरेलु उपाय :-

छोटे बच्चे अक्सर दूध पीने के बाद उलटी कर देते हैं जिसे देख कर माता पिता परेशान होने लगते हैं लेकिन दोस्तों यह जरुरी नहीं है की बच्चा अगर दूध की उलटी कर रहा है तो उसका पेट खराब ही है | विशेषज्ञों का मानना है कि यह बहुत ही साधारण सी बात है बच्चे अक्सर ज्यादा खाना खाने के बाद उलटी कर देते हैं । अगर बच्चे के द्वारा फेंका क्या दूध फटा हुआ है तो बच्चे की पाचन क्रिया सही काम कर रही है | वह जरुरत से ज्यादा दूध पी रहा है या उसे पिलाया जा रहा है | उसका शरीर पिए हुए दूध को पचाने का कार्य कर रहा है और जरुरत से ज्यादा पिए गए दूध को बाहर निकाल रहा है | बच्चा पूरी तरह स्वस्थ है और उसे किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं है |

लेकिन अगर बच्चे द्वारा फेंका गया दूध फटा हुआ नहीं है तो इसका मतलब है कि बच्चे की पाचन क्रिया सही से काम नहीं कर रही और वह दूध को हजम नहीं कर पा रहा | अगर बच्चे दूध को हजम नहीं कर पा रहे हो तो ऐसी स्थिति को दूर करने के लिए आपको कुछ उपाय बताते हैं | छोटे बच्चे जो माँ के दूध पर पूरी तरह से निर्भर होते है वह अगर उलटी करते हुए फटा हुआ दूध नहीं फैक रहे तो बच्चे की माँ 4 बातों का ध्यान रखे तो बच्चा जल्द स्वस्थ हो जायगा |

मां का दूध पीने वाले बच्चों के लिए उपाय :-

1) बच्चे की माँ जो भी खाये खूब चबा-२ कर खाये |
2) बच्चे की माँ उन चीजों का परहेज करे जो शरीर मैं गैस पैदा करती है यानि वायवादी करती है या जो चीज देर से पचती है उन्हें ना खाये |
3) कभी भी माँ द्वारा क्रोध की अवस्था में अपने बच्चे को दूध नहीं पिलाना चाहिए |
4) दूध पिलाने से पहले यदि मां एक गिलास पी ले तब शिशु को पिलाया गया दूध शीघ्र पच जाता है और उसे दस्त और उल्टी नहीं होते |

जो बच्चे ऊपर का दूध पीते है उन्हें दूध हजम करने में परेशानी होने पर वह बिना फटे हुए दूध की उलटी कर देते है | ऐसे बच्चो को दूध पिलाने से पहले उनके दूध को हल्का और सुपाच्य करने के 3 तरीके नीचे बताये गए है |

ऊपर का दूध पीने वाले बच्चों के लिए उपाय :-

1) दूध उबालते समय 200 ग्राम दूध में 10-20 ग्राम और छोटी पीपली एक ग्राम या 1-2 दाने डाल कर दूध को उबालें | और उबालने के बाद उस पीपली को निकाल कर फेंक दे | यह पीपली दूध में मौजूद दोषो को नष्ट कर देती है और दूध हल्का और सुपाच्य हो जाता है |
2) एक कप दूध में आधा चम्मच सौंफ और थोड़ा सा डालकर उबालने से दूध हल्का और सुपाच्य हो जाता है | क्योंकि दूध उबालने पर गाड़ा होने के साथ साथ भारी भी हो जाता है इसलिए उसमे सौंफ के साथ साथ उबालने से पहले थोड़ा सा भी मिलाये.
3) रात में एक चम्मच सौंफ आधा कप में भिगो दें | सुबह सौंफ को मसलकर में छान लें | अब इस को दूध में मिलाकर पिलाने से बच्चे का पेट फूलना और गैस बनना ठीक हो जाता है |
अगर आपको हमारे द्वारा बताए गए उपाय पसंद आ रहे हैं तो कृपया यह अन्य लोगों के साथ भी शेयर कीजिए |
धन्यवाद

Our YouTube Channel is -> A & N Health Care in Hindi
https://www.youtube.com/channel/UCeLxNLa5_FnnMlpqZVIgnQA/videos

Join Our Facebook Group :- Ayurveda & Natural Health Care in Hindi —-
https://www.facebook.com/groups/1605667679726823/

Join our Google + Community :- Ayurveda and Natural Health Care —
https://plus.google.com/u/0/communities/118013016219723222428

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *