हल्दी

|| || ke Fayde || ke Labh :-

, ke fayde, ke gun, powder ke fayde, in hindi, ke labh, ,

हल्दी को आयुर्वेद में प्राचीन काल से ही एक चमत्कारिक औषधि के रूप में मान्यता प्राप्त है । हल्दी एक ऐसा एंटी-ऑक्सीडेंट है जिसका इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता रहा है | हल्दी में एंटीसेप्टिक गुण पाए जाते हैं जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने के साथ ही अंदरूनी ब्लड क्लॉट्स को भी दूर करते हैं | इसके अन्य लाभ भी है :-

माइग्रेन :-

दो छोटे चम्मच हींग व हल्दी पाउडर बराबर मात्रा में लें | इन दोनों को अलग अलग कागज में लपेट लें | इन दोनों को एक साथ फोल्ड करके जला दे और इसकी खुशबू सूंघे | माइग्रेन में आराम मिलेगा |

सिर दर्द :-

हल्दी की गांठ को पानी में घिसकर माथे पर लगाएं सिर दर्द में आराम मिलेगा |

पुराने दमे का दुश्मन पुरानी हल्दी की गांठ :-

आयु और समय के साथ बढ़ता हुआ दमा नींद हराम कर देता है | दमे को दबाने का एक रामबाण उपाय है | पुरानी (जितनी अधिक पुरानी हो उतना ही अच्छा) हल्दी की गांठ को पीसकर चूर्ण बना ले | आधा बड़ा चम्मच चूर्ण, 2 बड़े चम्मच शहद में मिलाकर सेवन करें | शहद भी जितना अधिक हो पुराना होगा उतना अधिक लाभदायक होगा |

चोट :-

चोट या मोच हल्दी पेस्ट में थोड़ा सा नींबू का रस और शोरा मिलाकर मोच या चोट पर लगाए | जोड़ों में दर्द होने पर भी इसे लगा सकते हैं |
चोट लगने पर हल्दी मिला गर्म दूध पीने से दर्द और सूजन में आराम मिलता है | चोट पर हल्दी और पानी का लेप लगाने से भी फायदा होता है |

मसूड़ों को मजबूत :-

मसूड़ों को मजबूत बनाने के लिए थोड़ी सी हल्दी, नमक और सरसों का तेल मिलाकर इससे दांतों और मसूड़ों की मसाज करें | इससे मसूड़ों की सूजन दूर होती है और दांत के कीड़े भी खत्म हो जाते हैं |

कोलेस्ट्रॉल :-

हल्दी कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकती है विटामिन ‘बी 6’ की अधिकता की वजह से दिल की रक्षा करती है इसे खाने से मेटाबॉलिज्म दुरुस्त होता है और सही तरीके से काम करता है |

अर्थराइटिस के दर्द :-

इसमें उपस्थित एंटीऑक्सीडेंट anti-inflammatory तत्व फ्री रेडिकल्स के प्रभाव प्रभावों को दूर करते हैं जिससे अर्थराइटिस के दर्द और शरीर में आइए ठंड से राहत मिलती है |

सूजन :-

एक प्याज में एक छोटा चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर उसे पीस लें | इसे सूजन वाले हिस्से पर लगाएं सूजन कम होगी |

अस्थमा :-

अस्थमा, एलर्जी, मांसपेशियों में दर्द होने और बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करने के लिए एक कप गर्म दूध में एक छोटा चम्मच हल्दी पाउडर डालकर उबालें और सोने से पहले पिए इससे कफ की समस्या में भी आराम मिलता है |

खांसी :-

खांसी आने पर हल्दी की एक छोटी गांठ मुंह में रखकर चूसे |देसी घी में हल्दी पाउडर मिलाकर लेने से खांसी में आराम मिलता है | हल्दी कि एक गांठ को थोड़े से गुड़ के साथ चूसने से गले की खराश में आराम मिलता है |

जुकाम :-

एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच चीनी और हल्दी मिलाकर पिए जुकाम में लाभ होगा |

बलगम :-

2 ग्राम हल्दी पाउडर ले | इसमें 2 छोटे चम्मच शहद मिलाएं और दिन में दो बार ले | छाती में जमा बलगम साफ होकर निकल जाएगा |

डाइजेशन :-

डाइजेशन को बेहतर बनाने के लिए दोपहर में भोजन के बाद एक कप दही में एक छोटा चम्मच हल्दी मिलाकर खाएं |

खून और :-

खून और से विषाक्त तत्वों को बाहर निकालने के लिए रोज शहद में एक छोटा चम्मच कच्ची हल्दी की गांठ का जूस मिलाकर ले |

त्वचा रोग :-

हल्दी में नीम की पत्तियों को पीसकर उसका पेस्ट तैयार कर लें | इस पेस्ट को दाद, बहुत ज्यादा खुजली होने पर, एक्जिमा या अन्य त्वचा रोग होने पर लगाएं |

जख्म या फोड़ा :-

किसी प्रकार का जख्म या फोड़ा आदि होने पर हल्दी पाउडर को नींबू के रस में मिलाकर पेस्ट बना लें और प्रभावित हिस्सों पर लगाए | जल्द आराम मिलेगा |

टैनिंग :-

धूप के कारण त्वचा में टैनिंग हो गई है तो बादाम पेस्ट, हल्दी और दही मिलाकर त्वचा पर लगाएं | 10-15 मिनट के बाद चेहरा धो लें | टैनिंग दूर हो जाएगी | हल्दी और दूध से बना पेस्ट चेहरे पर लगाने से त्वचा में निखार आता है |

शुष्क आंखें :-

 

हल्दी की कुछ गांठो को अरहर की दाल में मिलाकर धूप में रख दें | सूखने पर खुरच और आंखों पर काजल की तरह लगाएं | इससे आँखों की खुश्की दूर होती है |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *