प्रतिरक्षा प्रणाली || रोग प्रतिरोधक क्षमता

बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ ():-

इम्यून सिस्टम बूस्टर 
दोस्तों, आजकल हर इंसान किसी न किसी बीमारी से ग्रस्त है और इन बिमारिओ का सबसे बड़ा कारण है का कमजोर होना यानि Weak | बहुत से ऐसे खाद्य पदार्थ है जिन्हे अपने भोजन में शामिल करने से शरीर की मजबूत को मजबूत किया जा सकता है । यदि आप सर्दी जुकाम (Cold) और फ्लू (flu) से बचाव के तरीके खोज रहे हैं, तो स्थानीय किराने की दुकान पर वह मिल जायँगे । को बढ़ाने वाले इन 6 शक्तिशाली बूस्टर को अपने भोजन में शामिल करे ।

बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ :-

  1. सिट्रस फूड यानि खट्टे फल :-

    citrus fruit
    हमारे शरीर को इनफेक्शन से बचाने और को बनाने के लिए सफेद रक्त कोशिकाओं यानि वाइट ब्लड सेल्स का बहुत इंपोर्टेंट रोल है | सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में Vitamin ‘C’ का बहुत बड़ा योगदान है | Vitamin ‘C’ पानी में घुलने वाला विटामिन है जो कि हमारे शरीर की के लिए अत्यंत आवश्यक है । हमारा शरीर Vitamin ‘C’ ना तो बना सकता है और ना ही Store कर सकता है, इसीलिए इसका प्रतिदिन सेवन सेहत के लिए बहुत जरूरी है । संतरे, अमरुद, अंगूर, केला, नींबू, टमाटर, शलगम, पालक, हरा धनिया, आंवला, स्ट्रॉबेरी, कीवी, पपीता आदि उन फलो और सब्जियों के नाम है जो Vitamin ‘C’ से भरपूर होते है |

  2. दही: –

    dahi
    चरक संहिता के अनुसार दही ताकत और रोग प्रतिरोधक शक्ति बढाने में सहायक होता है इतना ही नहीं एक अमेरिकी सर्वेक्षण के अनुसार, दही का सेवन आपके शरीर की को मजबूत करने में मदद करता है । इसका सेवन ज्यादातर वे लोग करते हैं जो अपने स्वास्थ्य को ले कर अधिक जागरूक होते हैं क्योंकि दही विटामिन ‘डी’ का एक बड़ा स्रोत है | विटामिन ‘डी’ को विनियमित (Regulate) करने में मदद करता है और हमारे शरीर की को मजबूत बनाता है |

  3. लहसुन :-

    Lehsun
    लहसुन का इस्तेमाल लगभग सभी तरह के भोजन को तैयार करने में किया जा सकता है । यह भोजन में एक प्रकार का flavour डालता है जो अच्छे स्वास्थ्य के लिए भी आवश्यक है । लहसुन शरीर की को मजबूत करता है, बुढ़ापे को दूर रखता है और शरीर को चुस्त बनाये रखने में मददगार होता है | नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी के अनुसार लहसुन Bad कोलेस्ट्रोल (L.D.L) को घटाने और नसों की अकड़न को घटाने में मदद करता है | लहसुन सल्फर युक्त योगिक जैसे एलिसिन से भरपूर होता है, जो शरीर में को बढ़ाने में सहायक है ।

  4. बादाम :-

    badam
    सभी सूखे मेवे स्पेशली बदाम Vitamin ‘E’ से भरपूर है | Vitamin ‘E’ हमारी को बढ़ाता है | Vitamin ‘E’ वसा यानि FAT में घुलनशील है मतलब यह वसा यानि FAT को सोखने में सक्षम है | आधा कप बादाम की मात्रा, प्रतिदिन की 100% जरूरतों को पूरा करने के लिए काफी है |

  5. हल्दी: –

    हल्दी
    कड़वी, गहरे पीले रंग की हल्दी लगभग सभी व्यंजनों को बनाने वर्षो से उपयोग में लाई जाती रही है । हल्दी एक मसाला ही नहीं बल्कि एक औषधि भी है जिसका उपयोग वर्षों से गठिया और हड्डियों के रोगों के उपचार में किया जाता है । एक स्टडी के अनुसार हल्दी में पाए जाने वाला Curcumin सूजन और बुखार को कम करने में सहायक होता है |

  6. ग्रीन टी :-

    green tea
    Black Tea और ग्रीन टी दोनों में पाए जाने वाला प्राकृतिक तत्व EGCG एक बहुत ही प्रभावशाली एंटी-ऑक्सीडेंट है | ब्लैक टी उबालकर बनाई जाती है और उबलने के कारण उसमे मौजूद EGEC नष्ट हो जाता है जबकि ग्रीन टी को उबालकर नहीं बनाया जाता बल्कि उबले हुए पानी में डालकर बनाया जाता है जिससे EGCG नष्ट नहीं होता | इसके अलावा अमीनो एसिड में पाए जाने वाला El-Thianin हमारे T-Cells में विषाणु नाशक क्षमता को बढ़ाता है |

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *