आंवला : स्वास्थ्य और सौंदर्य का रक्षक

: स्वास्थ्य और सौंदर्य का रक्षक

आंवला :- स्वास्थ्य और सौंदर्य का रक्षक

भारतवर्ष का एक अत्यंत उपयोगी फल है | अति प्राचीन वेद काल से ही यह परिचित एव प्रभावपूर्ण औषधि के रूप में व्यवहार में लाया जाता रहा है तथा को आयुर्वेद (Ayurveda) में बहुत ऊंचा स्थान प्राप्त है | काष्ठोषधि से लेकर रसौषधि (Nutritious) तक ऐसे बहुत ही कम प्रयोग है जिनमें  का व्यवहार (Use) नहीं हुआ | प्राय: सब ही प्रयोगों में यह किसी न किसी रूप में पाया जाता है |

महाऋषि चरक ने तो विस्तृत रूप से के बाजीकरण एव रसायनिक कतिपय कल्पो (गुणों ) का वर्णन किया है जिनके प्रभाव से बूढ़े भी ( च्वयन ऋषि जैसे ) जवान हो जाते थे, रोग मुक्त होना तो सहज (Easy) बात थी | वास्तव में अन्य फलों की अपेक्षा समस्त रोगो को हरने और स्वास्थ्य (Health), आरोग्य (Soundness) एवं सौंदर्य (Beauty) शक्ति को बनाये रखने के गुणों से भरपूर होने के कारण को आयुर्वेद (Ayurveda) में श्रेष्ठ स्थान (Best place) प्राप्त हुआ है |

का परिचय:-

प्राय: कंकरीली और पथरीली भूमि पर होने वाले के वृक्ष की पत्तियां छोटी होती है तथा फूल पीले रंग का होता है | अक्टूबर-नवंबर मास (Month) में फलने वाले इस फल में स्वास्थ्य को बनाये रखने और शरीर को स्वस्थ रखने की अद्भुत क्षमता (Incredibal Power) होती है |

ताजे में मिलने वाले तत्वों का प्रतिशत (Percentage) इस प्रकार है :-

प्रोटीन 16%, विटामिन ‘C’ 60%, खनिज 6%, कार्बोहाइड्रेट्स 2%, निकोटोनिक एसिड 15% तथा वसा 1% है |

के गुण :-

त्रिदोष नाशक यानि वात, पित्त और कफ के दोषो का नाश करने वाला होता है अर्थात अपने खट्टेपन (Sourness) के गुण से यह वात को, मीठे एव ठंडक के गुण से पित्त को, और रूखेपन व कसैलेपन (Astigmatism) के गुण से कफ को नष्ट करता है |

के उपयोग / 16 घरेलु नुस्खे :-

    1. के मुरब्बे का नियमित रूप से सेवन करने से की कोई बीमारी नहीं होती यानी शुद्ध होता है | यह वात को हरता है, को ठीक रखता है और इंद्रियों (Sences) की शक्ति (Power) को बढ़ाता है |
    1. की चटनी नमक के साथ पीसकर खाने से कफ (Cough), जलन तथा शरीर की गर्मी शांत होती है |
    1. की चटनी मिश्री तथा काला नमक मिलाकर सेवन करें तो याददाश्त (Memory) तेज होती है, शरीर निरोग रहता है |
    1. यदि आप चाहते हैं कि आपके बाल (Hair) सदैव काले बने रहे तो इसके लिए रात्रि में सूखे लेकर उसमें थोड़े से पानी में भिगो दें | उसके बाद सुबह को निकालकर उस पानी से सिर को धोएं, इससे बाल (Hair) तो हमेशा काले रहेंगे तथा नजला (Cold) भी नहीं होगा |
    1. गर्मी के मौसम में प्राय: नकसीर (Nosebleed) फूटा करती है | अतः ऐसे समय में सूखे को घी एव शक्कर के साथ सुबह-शाम कुछ दिनों तक सेवन (Regular Use) कराने से नाक से का गिरना (Nosebleed) बंद हो जाएगा |
    1. के रस में शहद (Honey) मिलाकर देने से पित्त के कारण होने वाली हिचकी (Hiccup), उबकाई, क़ै, तृषा आदि एकदम शांत हो जाती है |
    1. त्वचा (Skin) के रोगों में आंवले का प्रयोग बड़ा लाभदायक है | आंवले के चूर्ण को तेल के साथ मिलाकर लगाने से खुजली (Itching) से छुटकारा मिलता है |
    1. मूर्छा (Faint) आ जाने पर आंवले के रस को घी में मिलाकर पिलाने से बेहोशी दूर होती है |
    1. बवासीर (Piles) के मस्सों से अधिक गिरता हो तो आंवले के चूर्ण का सेवन (Consume) दही की मिलाई के साथ करने से लाभ होता है |
    1. आंवले को पानी से पीसकर नाभि (Navel) के चारों ओर एक पाली (Shift) बनाकर उसमें अदरक का रस भर देने से नदी के वेग की भांति लगे हुए दस्त (Diarrhea) भी बंद हो जाते हैं |
    1. आंवले के चूर्ण और गुड़ बराबर मात्रा में मिलाकर सेवन करने से मूत्रकच्छ ( पेशाब का कष्ट के साथ उतरना ) नष्ट होता है | इस प्रयोग से रक्तपित्त, दाह, शूल आदि का शमन (Suppression) होकर, थकावट दूर होती है |
    1. हमेशा आंवले का सेवन करने से प्रमेह रोग (Gonorrhea), मधुमेह (Diabetes) जैसी बीमारियां भी ठीक हो जाती हैं |
    1. ह्रदयघात ( Heart Attack) की बीमारी की नली में कोलेस्ट्रॉल (Cholestrol) जम जाने के कारण होती है, परंतु आंवले का सेवन नियमित रूप से किया जाए तो यह की नली (Blood Vessel) में जमने वाले कोलेस्ट्रॉल (Cholestrol) को कम करता है |
    1. सौंदर्य वृद्धि हेतु सूखे आंवले को पानी के साथ पीसकर शरीर पर लेपकर स्नान (Bath) करने से शरीर में झुर्रियां (Wrinkles) नहीं पड़ती |
    1. सूखे आंवले और तिलों को पीसकर मालिश (Massage) करने के बाद स्नान (Bath) करने से शरीर की कांति (Glow) बढ़ती है |
  1. अरुचि, कोष्ठबद्धता (Constipation) या अफारा बना रहता हो, बार-बार उबकाई (Vomiting) आती हो तथा अधिक सुपारी, चाय, बीड़ी, सिगरेट आदि का व्यसन (Addiction) हो तो इन व्यसनों को धीरे-धीरे छोड़ते हुए उनके स्थान पर नित्य (Continual) ताजे या सूखे आंवले खाते रहने से तथा इसकी चाय (Tea) या शरबत बनाकर पीते रहने से ऊपर बताई गई सभी शिकायतें दूर होकर शरीर की प्रकृति (Nature) और स्वास्थ्य (Health) में पूर्णता सुधार होता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *