सिरदर्द

सिरदर्द || अनेक रोगों का कारण और लक्षण || आसान घरेलू इलाज

 

सिरदर्द अपने आप में एक बीमारी नहीं है यह हमारे शरीर में होने वाली अलग-अलग बीमारियों का लक्षण है | सिर दर्द एक रोग नहीं है अपितु किसी रोग का लक्षण मात्र होता है | सिरदर्द इस बात की चेतावनी है कि शरीर में कहीं कोई खराबी है | यह खराबी शारीरिक क्रियाओं की हो सकती है और मानसिक भी हो सकती है या किसी अंग विशेष की भी हो सकती है |
भूख, जुकाम, नाड़ी की दुर्बलता, हृदय को चोट पहुंचने वाली बात, कान के रोग, शरीर में ऑक्सीजन की कमी, रक्त की कमी, मस्तिष्क में रक्त की अधिकता, यकृत की शिथिलता, नींद की कमी, अधिक श्रम, चाय-कहवा का अधिक इस्तेमाल, अत्याधिक परेशानी, शोक अथवा भयभीत होना, सिर पर स्काफ आदि कसकर बांधना, सिर पर गर्म पानी डालना, मासिक स्राव के समय ठंड लग जाने से स्राव का बंद हो जाना, आंखों पर अस्वभाविक ढंग से जोर देना अर्थात महीन अक्षर पढ़ना, कम उजाले में पढ़ना, नजदीक से सिनेमा आदि देखना, चलती ट्रेन, बस आदि में पढ़ना तथा पैदल चलते-चलते पढ़ना एवं नेत्र के रोग इत्यादि तरह-तरह के विकार सिरदर्द की उत्पत्ति का कारण होते हैं |

:-

सिरदर्द का कारण एक नहीं अनेक होते हैं | पर मूल कारण पाचन क्रिया में खराबी, मल का निष्काषन उचित रुप में ना होना और शरीर मे विषाक्त रक्त का प्रवाह है |

ज्वर कारण होने वाला सिरदर्द :-

शरीर में हम एसिड बहुत बढ़ जाने के कारण रक्त दूषित हो जाता है | जिससे ज्वर और सिरदर्द की उत्पत्ति होती है | इस के लिए खानपान में संयम से काम लेना चाहिए | सादा सात्विक और सप्राण भोजन ग्रहण करना चाहिए | आवश्यकता अनुसार उपवास करना चाहिए, जल प्रचुर मात्रा में पीना चाहिए | इससे शरीर की अम्लता दूर होती है और साथ ही साथ ज्वर और सिरदर्द भी दूर होता है |

ललाट और कनपटी में दर्द :-

ललाट और कनपटी में दर्द हो तो समझना चाहिए कि कारण पेट व आंतों की खराबी है | इसमें सिर फटता सा जान पड़ता है |

ब्लड प्रेशर के कारण होने वाले सिरदर्द :-

ब्लड प्रेशर के कारण होने वाला सिरदर्द बड़ा भयंकर होता है | इसका आरंभ सामान्यता भेजे के मूल में होता है | जो बाद में धीरे-धीरे समूचे मस्तिष्क में फैल जाता है और तब ऐसा जान पड़ता है की सर अब फटा | यह दर्द छिकने और खासने तथा शरीर को एकाएक मोड़ने आदि से बढ़ जाता है | इस दर्द के फल स्वरुप कभी-कभी आंखों से कम दिखाई देने लगता है |

नेत्रों पर अस्वभाविक ढंग से जोर डालने के कारण होने वाला सिर दर्द :-

नेत्र रोग अथवा नेत्रों पर अस्वभाविक ढंग से जोर डालने के कारण जो सिर दर्द होता है वह धीरे-धीरे ही बढ़ता है | यह दर्द आंखों के पिछले भाग में होता सा जान पड़ता है |

मस्तिष्क में रक्त अधिकता के कारण होने वाला सिर दर्द :-

मस्तिष्क में रक्त अधिकता के कारण जो सिर दर्द होता है वह इस वजह से होता है कि किसी कारणवश रक्त के बहाव में अवरोध उत्पन्न हो जाता है जिस से सिर के भीतर की रक्त नलिकाएं फूल जाती है | परिणामस्वरूप सरदर्द होता है |

यकृत की शिथिलता तथा अस्वस्थता के कारण होने वाला सिर दर्द :-

यकृत की शिथिलता तथा अस्वस्थता के फलस्वरूप जब उससे होने वाले पित्त का स्राव सुस्त हो जाता है, तब आंतों के स्वभाविक कार्य में भी शिथिलता आ जाती है | जिसकी वजह से सिर दर्द की सृष्टि होती है |

मस्तिष्क की जड़ में दर्द :-

गर्दन के पिछले भाग के मस्तिष्क की जड़ में यदि दर्द हो तो उसका कारण नाड़ी की दुर्बलता, नाक-आंख के रोग अथवा मस्तिष्क के निम्न भाग का रोग होना होता है |

सर्दी जुकाम में होने वाला सिरदर्द :-

सर्दी जुकाम जन्य सिरदर्द ललाट और कनपटियों में होता है |

बहुत दिनों से चलने वाला पुराना सिरदर्द :-

बहुत दिनों से चलने वाले पुराना सिरदर्द का कारण शरीर के रक्त का विषाक्त होना, हाई ब्लड प्रेशर तथा मस्तिष्क के अबुर्द गांठ का होना साबित हो करता है |

सिरदर्द

सर दर्द से फटना :-

पेट की खराबी, ऑक्सीजन की कमी, अल्प निंद्रा, अत्याधिक श्रम तथा चाय-कहवा के अधिक इस्तेमाल से होने वाले सिर दर्द में सिर फटता हुआ प्रतीत होता है |
नाड़ी संस्थान की खराबी से हुए सिर दर्द में सिर कसा सा जान पड़ता है | मानो रबड़ की पट्टी फैलाकर सिर पर जमा दी गई हो |

उपचार :-

  1. हाई ब्लड प्रेशर 200 से ऊपर होने पर सिरदर्द भयंकर हो उठता है | उस वक्त सिरदर्द से छुटकारा पाने के लिए तत्काल ब्लड प्रेशर को कम करने की कोशिश करनी चाहिए | इसके लिए आहार में सुधार, श्रम करना और सादे तरीके से रहना आवश्यक है | नशीली वस्तुओ का सेवन बंद कर देना चाहिए और कम से कम 1 सप्ताह तक मौसम के रसदार फलों जैसे आम, संतरा, सेब, अंगूर, टमाटर आदि पर रहना चाहिए | शरीर और मस्तिष्क को आराम दीजिए, समय पर गाड़ी नींद लीजिए और सोते वक्त तकिये का इस्तेमाल छोड़ दीजिए | इस उपचार से ब्लड प्रेशर सामान्य हो जाएगा और उसकी वजह से होने वाला सिरदर्द भी दूर हो जाएगा |
  2. आंखों की कमजोरी की वजह से होने वाले सिरदर्द के लिए कुछ हल्के नेत्र व्यायाम करने चाहिए | इसके साथ-साथ दोनों हथेलियों को आपस में रगड़ कर गर्म कर लीजिये और गरम हथेलियों से आँखों की सिकाई करने से सरदर्द में आराम मिलता है |
  3. मस्तिष्क में रक्त अधिकता के कारण से होने वाले सिरदर्द को दूर करने का सरल उपाय है कि 10-20 मिनट पैरों को गर्म पानी से स्नान करवाने के पश्चात ताजे पानी से स्नान करवाये | इससे रक्त का अधिक भाग पैरों की ओर खिंच जाता है | जिस से सिर हल्का हो जाता है |
  4. मस्तिष्क में कम रक्त होने के कारण जो सिरदर्द होता है उसको गर्दन के पीछे गर्म जल की थैली लगाकर या गीली सिकाई देकर दूर किया जा सकता है | इस रोग के रोगी को पैरों के मुकाबले सिर को पूर्ण विश्राम देना चाहिए |
  5. यकृत की शिथिलता तथा अस्वस्थता के कारण होने वाले सिरदर्द को दूर करने का सरल उपाय है कि धड़ को झुकाने वाले व्यायाम, पेट अंदर की ओर खींच कर सीना फैला कर गहरी सांस लेने का व्यायाम अधिक लाभ करता है |
  6. सर्दी जुकाम से होने वाले सिर दर्द में नाक की सफाई हो जाने के बाद अपने आप चला जाता है |
  7. पाचन संबंधी विकारों से होने वाली से दर्द से छुटकारा पाने के लिए उपवास और सादे भोजन का प्रयोग करना चाहिए |
  8. सिर के ऊपरी भाग में तनाव मालूम हो तो समझना चाहिए कि शरीर को ताजी हवा की प्राप्ति नहीं हो रही |

सिर दर्द दूर करने के अन्य उपचार :-

  1. बहुत तेज से दर्द के समय गुनगुने पानी में नमक मिलाकर दोनों पैर उसमें रख दीजिए | 15-20 मिनट में आराम मिल जाएगा |
  2. जीभ पर एक चुटकी नमक रखकर 10 मिनट बाद एक गिलास ठंडा पानी पी लेने से भयानक से भयानक सिर दर्द में भी आराम मिलता है |
  3. 5-10 मिनट्स तक सर की मालिश करने से भी सरदर्द में आराम मिलता है |
  4. सरसो के तेल की 1-1 बून्द नाक की दोनों नासिकाओं में डालने से भी सरदर्द में तुरंत आराम मिलता है
  5. युकेलिप्टस आयल को ठंडे पानी की पट्टी पर डालकर ललाट पर रखें और उसे सूंघे भी इस प्रयोग से सिरदर्द में तत्काल राहत मिलेगी |
  6. सूर्योदय के समय नारियल की सूखी गिरी और मिश्री मिलाकर खाएं तो सिरदर्द के रोग में राहत मिलती है
  7. गर्मी के दिनों में सिर चकराता हो, जी घबराता हो तो आंवले का शर्बत पीजिए तुरंत राहत मिलेगी |

हम उम्मीद करते है की यह जानकारी आपके लिए आपके लिए फायदेमंद रहेगी | धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *