मधुमेह के मरीज के पैर

यह 7 लक्षण बताते है की के मरीज के खतरे में है:-

 

सिर्फ भारत में ही 1 लाख से भी अधिक के मरीजों को हर साल अपने खोने पड़ते हैं और ों के बिना का इलाज असंभव है क्योंकि शुगर पर कंट्रोल के लिए टहलना बहुत जरूरी है। इसलिए का इलाज ों से शुरू होता है और सबसे ज्यादा ख्याल भी ों का ही रखा जाना चाहिए | इसके लिए के मरीजों को खुद ही सचेत रहना चाहिए क्योंकि जैसे-जैसे बढ़ता है वैसे-वैसे ही ों की नसों पर इसका प्रतिकूल असर भी बढ़ता जाता है।
ऐसी स्थिति में अगर ों का ख्याल न रखा जाए तो इन्हें काटने तक की नौबत भी आ सकती है इसलिए में सबसे ज्यादा जरूरी है।

दोस्तों, यह एक सवाल मन में आता है की कैसे पता करे की डायबटीज़ का असर ो पर होना शुरू हो गया है और ऐसे कौन-2 से लक्षण है जो बताते है की अब स्थिति खतरनाक हो गई है?

डायबिटीज में

के ध्यान रखना

क्यों है जरूरी

और कौन 2 सी

सावधानिया

बरतनी चाहिए

ऐसे कौन-2 से लक्षण है जो बताते है की अब स्थिति खतरनाक हो गई है?

यह जानने के लिए आपको आगे बताये गए लक्षणों के प्रति सचेत रहना पड़ेगा :-

  1. ों की संवेदना/ Sensation खत्म हो जाती है या इतनी कम हो जाती है कि किसी भी तरह की चुभन का अहसास ही नहीं होता।
  2. ों की बनावट और रंग में बदलाव होने लगता है |
  3. ों के नाखूनों के आसपास बदलाव होने लगता है |
  4. पैरों में कंपन या झनझनाहट महसूस होने लगती है |
  5. पैर सुन्न पड़ने लगते हैं।
  6. पैरों में सूजन या जलन होने लगती है |
  7. पैरों में ऐसा जख्म / घाव हो, जो ठीक होने का नाम ही न ले रहा हो |

आदि कुछ ऐसे लक्षण है जिनके दिखाई देने या महसूस होने पर आपको समझ जाना चाहिए की अब स्थिति खतरनाक हो गई है और आपको डायबटीज़ के साथ-2 पैरो की देखभाल भी सावधानी से करने की जरूरत है |

अब यहां एक और सवाल उठता है की

करने के लिए के मरीज को कौन-2 सी सावधानिया बरतनी चाहिए?

  • अपने पैरों की नियमित जांच करें। पैरों में पड़े कट्स, क्रेक और नाखूनों की अच्छे से जांच करें। पैरों की अंगुलियों के बीच और तलवों को अवश्य देखते रहना चाहिए। अगर संभव हो तो किसी अन्य से भी अपने पैरों की जांच करवाएं।
  • अपने नाखूनों को काटने में सावधानी बरतें।
  • के मरीज कभी भी नंगे पैर न घूमें। इससे आपके पैरों में चोट लग सकती है और घाव होने पर कीटाणु आपके शरीर में आसानी से प्रवेश कर सकते हैं।
  • उच्च रक्तचाप व उच्च कोलेस्ट्रॉल वाले रोगियों को अपने पैरों का खास ख्याल रखना चाहिए।
    • पैरों पर ज्यादा दबाव न पड़ने दें। और पैरों को लटकाकर न बैठें। उन्हें ऊंचा रखें।
    • किसी भी तरह के तंग कपड़े न पहनें जिससे खून के प्रवाह में रुकावट आए।
  • पैरों को अच्छी तरह से साफ करें और उन्हें सूखा रखें । पैरों की सूखी और परतदार त्वचा पर माइश्चराइजर जरूर लगाएं और हमेशा कॉटन की जुराबें ही पहनें और ध्यान रखे की जुराब हमेशा मोटे और अच्छे हों। याद रहे कि हमेशा धुला हुआ जुराब ही पहनें।
  • रोगी हमेशा शाम के समय ही जूता खरीदें, क्योंकि डायबिटीज के मरीजों के पैर दिन भर चलने के कारण थोड़े फूल जाते हैं। इसलिए मरीजों को उसी समय और उसी साइज के जूते खरीदने चाहिए और ध्यान रखे की जूते टाइट न हों। टाइट जूते पहनने से पैरों में घाव हो सकता है।
  • हमेशा आरामदायक जूते ही पहनें और ऐसे जूतों का इस्तेमाल करे जिनसे पंजों पर दबाव न पड़े । साथ ही नियमित अंतराल पर जूते-चप्पल-जुराब बदलते रहें। और एक आवश्यक बात हर बार जूता पहनने से पहले अवश्य देख लें कि कहीं कोई चुभने वाली चीज जूते के अंदर न हो।
  • हवाई चप्पल किस्म के फुटवियर न पहनें। फुटवियर में पंजे की तरफ का हिस्सा खुला हुआ और चौड़ा होना चाहिए।
  • शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए नियमित टहलें और व्यायाम करें।

के मरीजों के लिए आईने में चेहरा निहारना इतना जरूरी नहीं है, जितना कि पैर। का कोई भी लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *