आम || Aam ke fayde || Uses and Benefits of Mango in Hindi

आम की जानकारी || Aam Ke Fayde

Table of Contents

स्वाद के साथ-साथ आम (Mango) बड़ा ही उपयोगी है और आम के फायदे (Aam ke Fayde) बहुत है जिनकी जानकारी के साथ-२ आपको आम के पेड़ के अलग-२ हिस्सों के औषधीय गुणों और फायदों (Mango ke fayde) के साथ अलग-२ रोगो को दूर करने के लिए आम का उपयोग (Aam ka Upyog) करने की विधिओ की जानकारी इस लेख में दी जा रही है।

आम (Mango) कच्चा और पक्का दोनों रूपों में खाया जाता है। इसके दोनों ही रूप औषधीय गुणों से भरपूर होते है। इसका प्रत्येक भाग छिलका, गुठली, गुदा अपना विशेष महत्व रखते हैं। प्रकृति का सबसे बड़ा वरदान है आम (Mango) और यह अत्यंत लोकप्रिय फल भी है।

आम बहुत ज्यादा पसंद किया जाने वाला फल है। संसार भर के फलों में इसका अपना विशिष्ट स्थान है। भारत फलों के बादशाह आम का घर है। आम का इतिहास बहुत पुराना है। भारतीय साहित्य में यंत्र-तंत्र आम का वर्णन पढ़ने को मिलता है, जिससे पता चलता है कि वैदिक काल से ही भारत में आम उपलब्ध है। विश्व में आम की उपज का 60% से अधिक आम भारत में ही उत्पन्न होता है।

अन्य भाषाओं में आम के नाम

इसे संस्कृत में आम्र, हिंदी में आम, मराठी में आम्बा, गुजराती में कैरी, बंगला में आम, तेलुगु में पाविडी, तमिल में मांग, मंगाया, मलयालम में माबू, कन्नड़ में माविन फल, माबू, फारसी में आम्बा, अम्बज तथा अंग्रेजी में mango कहते हैं। इसका लैटिन में मग्निफेरा इंडिका कहते है।

आम के गुण || आम के औषधीय गुण || Aam ke Gun

आम के गुण (Aam ke Gun) अवस्था के अनुरूप थोड़े भिन्न होते हैं:-

पका हुआ आम पौष्टिक, स्निग्ध, शक्तिवर्धक, भारी, वातनाशक, सुखदायक, हृदय को हितकारी, रंग निखारने वाला, शीतल, पित्त को न बढ़ाने वाला, कषाय रस युक्त एव जठरागिनी, कफ और वीर्य की वृद्धि करने वाला होता है।

कच्चा आम कसैला, खट्टा, रुचि कारक, पित्त कारक, रुखा, रक्त विकार पैदा करने वाला होता है।

पेड़ पर पका आम भारी, वातनाशक, मधुर व अम्ल रस वाला तथा पित्त कारक होता है।

कृत्रिम रूप से पकाया गया आम रुचिकर, बल वीर्य वर्धक, शीतल, पाचक, सारक और वात-पित्त का नाश करने वाला होता है।

आम की तासीर || Mango ki Taseer

आम गर्म फल है यानि आम की तासीर (Mango ki Taseer) गर्म होती है और अगर आप अधिक मात्रा में आम का सेवन करते हैं तो इससे आपके शरीर में गर्मी बढ़ सकती है और शरीर में गर्मी के करण पैदा होने वाले फोड़े, लाल चकते आदि हो सकते है। इससे बचने के लिए संतुलित मात्रा में ही आम का सेवन करे।

आम के पेड़ की जानकारी

आम का वृक्ष (आम के पेड़) आयुर्वेदिक औषधियों का माना हुआ वृक्ष भी है। आम के पत्ते, पेड़ की छाल, उसके फूल, आम का फल, आम के वृक्ष की जड़, कोंपल, आम के फल की गुठली की गिरी, आम की गोँद सभी औषधियों के रूप में इस्तेमाल की जाती हैं। प्रकृति का सबसे बड़ा वरदान है यह अत्यंत लोकप्रिय फल और आम का पेड़ ।

आम के फूल

आम के पेड़ में लगने वाले आम के फूल शीतल, रूचिकारक, ग्राही, वातजनक, अतिसार, कफ, पित्त, प्रमेह और रक्त दोष दूर करने वाले होते हैं।

आम की गुठली

आम की गुठली की मिंगी कषाय, मधुर, थोड़ी खट्टी और उल्टी, दर्द निवारक तथा हृदय के दाह को शांत करने वाली होती है।

इसकी गुठली के गूदे में पाया जाने वाला तेल खाने लायक होता है तथा विशेष रुप से हृदय व रक्तचाप के मरीजों के लिए उपयोगी होता है।

आम का पेड़ की छाल

आम का पेड़ की छाल हल्की, रूखी, कषाय रस युक्त, विषाक में कटु और शीतवीर्य होती है। यह रक्तस्राव रोकने वाला वाली, संकोचन तथा उल्टी, अतिसार, बवासीर में उपयोगी होती है।

आम के पत्ते

आम के कोमल पत्ते रुचि कारक और कफ, पित्त का शमन करने वाले होते हैं।

आम के पौष्टिक तत्व || Nutritional Value of Mango in Hindi

आम के पके फल में आर्द्रता 81.0 प्रतिशत , प्रोटीन 0.6 प्रतिशत, वसा 0.4 प्रतिशत, खनिज द्रव्य 0.1 प्रतिशत, रेशा 0.7 प्रतिशत, कार्बोहाइड्रेट 16.9%, उर्जा 74 प्रतिशत, कैल्शियम 14 प्रतिशत ,फास्फोरस 16 प्रतिशत और लोहा 1.3 प्रतिशत पाए जाते हैं। इसके अलावा इसमें विटामिन ‘ए’, विटामिन ‘बी’, विटामिन ‘सी’, विटामिन ‘डी’ भी पर्याप्त मात्रा में मिलते हैं। इसमें साइट्रिक एसिड, गेलिक एसिड भी अल्प मात्रा में पाया जाता है। इनके अलावा सोडियम, पोटेशियम , ताम्र , गंधक, मैग्निसियम, क्लोरिन भी पाए जाते हैं |

आम की गुठली के गूदे में प्रोटीन 5%, वसा 6 से 7%, रेशे 1 से 2%, राख 2 से 3% तथा टेनिन 0.19-0.44 प्रतिशत मौजूद रहते हैं।

मसाले लगाकर कृत्रिम रूप से पकाए गए आम की अपेक्षा प्राकृतिक रूप से पके हुए आम गुणों से भरपूर होते हैं। आम को 1 से 2 घंटे पानी में भिगोकर ही खाना चाहिए, वरना हाजमा खराब हो जाता है।

आम खाने के फायदे || Aam Khane ke Fayde

Aam ke Fayde Aam ke Upyog Benefits of Mango in Hindi आम

कैंसर से बचाव में सहायक आम खाने के फायदे

आम में भरपूर मात्रा में पाए जाने वाले एंटीऑक्सिडेंट्स और एंटीकैंसर गुण हमारे शरीर में कैंसर कोशिकाओं और अन्य ट्यूमर कोशिकाओं के विकास को रोकने में सहायक होते है। यह शरीर में होने वाले तरह-२ के कैंसर जैसे ब्रैस्ट कैंसर, कोलन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और लेकिमिया आदि से बचाने में काफी सहायक सिद्ध होता हैं।

आंखों के लिए आम के फायदे || Aam ke Fayde

आप तो जानते ही होंगे की विटामिन-ए की कमी का सीधा असर हमारी आंखों की रोशनी पर पड़ता है। आम में भरपूर मात्रा में विटामिन ‘ए’ पाया जाता है जो हमारे शरीर में विटामिन ‘A’ की कमी नहीं होने देता जिस कारण यह हमारी आंखों के स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। संतुलित मात्रा में नियमित रूप से आम का सेवन करने से आंखों की रोशनी तेज होती है।

आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए क्या खाएं?

लू से राहत दिलाये आम खाने के फायदे

गर्मियों में चलने वाली गर्म हवा यानि लू अक्सर लोगो को अपनी चपेट में ले कर बीमार कर देती है। जिससे शरीर में पानी की कमी हो जाती है। ऐसे में कच्चे आम के प्रयोग से बनने वाला पाना और उसका गुदा आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। यह शरीर मेंपानी की कमी को तो पूरा करता ही है साथ ही पोटेशियम जैसे जरुरी तत्व भी शरीर में पहुंचाकर लू के प्रभाव को खत्म करने में सहायक होता है।

पाचन क्रिया को ठीक रखने में सहायक आम खाने के फायदे

आम में फाइबर तो भरपूर मात्रा में पाया जाता ही है साथ ही इसमें लैक्सेटिव (laxative) यानी पेट को साफ करने का गुण भी मौजूद होता है। ऐसे में इसके सेवन से पेट साफ़ तो होता ही है साथ ही पाचन संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाने में भी मदद मिलती हैं। इसके सेवन से कब्ज और पेट के अल्सर जैसी परेशानिया दूर करने में सहायता मिलती है।

Ginger in Hindi || अदरक के फायदे और नुकसान

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक आम के फायदे

आम में विटामिन स भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक होता है। विटामिन स एलेर्जी की समस्या को दूर करने के साथ साथ संक्रमण से लड़ने में भी मददगार होता है।

Triphala Powder || अलग-२ ऋतुओ में त्रिफला चूर्ण लेने का तरीका और उसके फायदे

कोलेस्ट्रॉल के लिए आम के फायदे || Aam ke Fayde

आम में विटामिन ‘C’ और फाइबर के अलावा और भी ऐसे तत्व पाए जाते है जो हमारे शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करके अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाने में सहायक होते है। इसके सेवन से शरीर में कोलेस्ट्रॉल का संतुलन सही बना रहता है जिससे कोलेस्ट्रॉल के कारण होने वाली समस्याएं शरीर से दूर रहती है।

अर्जुन की छाल कोलेस्ट्रॉल

दिल के लिए आम खाने के फायदे

ह्रदय स्वस्थ, तो आप स्वस्थ। ह्रदय को स्वस्थ रखने के लिए लोगो को अपने खान-पान का विशेष धयान रखना चाहिए। जिसका सबसे बढ़िया तरीका है की आप अपने खान-पान में मौसमी फलो को भी शामिल करे। गर्मियों में आने वाले आम में तो ऐसे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते है जो आपके दिल के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते है। इसलिए गर्मिओ में आम को अपने भोजन में अवश्य शामिल करे।

आयुर्वेद के 3 घरेलू उपचार करे हाई बी पी || मधुमेह || कोलेस्ट्रॉल || दिल की बीमारियां ( एनजाइना, हार्ट अटैक, कार्डियक अरेस्ट ) का नाश

सेक्स क्षमता बढ़ाने में सहायक आम के फायदे

आम में विटामिन ई और बीटा-कैरोटीन अधिक पाया जाता है और इससे सेक्स क्षमता बढ़ने में सहायता मिलती है। साथ ही ये पौरुष बढाने वाला फल भी माना गया है। आम के रस को दूध में मिलाकर पीने से मर्दाना ताकत बढ़ती है।

डायबिटीज के लिए आम के फायदे || Aam ke Fayde

मधुमेह बीमारीओं का बण्डल है। यह अपने साथ और बहुत सी बीमारीओं को ले कर आती है। मधुमेह को दूर करने के लिए आम के रस को जामुन के रस के साथ मिलाकर औषधि तैयार करके, सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा आम के पत्तो के सेवन से भी मधुमेह का उपचार करने में सहायता मिल सकती है जिसकी विधि इस लेख में आगे दी गई है लेकिन इनका प्रयोग करने से पूर्व अपने चिकित्सक से परामर्श अवश्य कर ले।

डायबिटीज रोगियों के लिए जरूरी 12 टिप्स

वजन कम करने के लिए आम के फायदे || Aam ke Fayde

आम में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है और डाइटरी फाइबर (dietary fiber) के सेवन से वजन घटना काफी फायदेमंद हो सकता है इसलिए अगर आप आने वजन को कर चिंतित है और उसे कम करना चाहते है तो गर्मिओ के मौसम में आम का सेवन करना आपके लिए काफी फायदे का सौदा हो सकता है।

अर्जुन की छाल वजन कम करने की प्रभावशाली औषधि

आम का उपयोग व आम के फायदे || Aam ke Fayde || Uses and Benefits of Mango in Hindi

आम शक्तिवर्धक और वीर्य वर्धक होते हैं। आम खाने से मांस बढ़ता है, खून की मात्रा बढ़ती है और शरीर की थकान दूर होती है। नेत्र रोगियों को आम का सेवन करने से फायदा होता है। आम के प्रयोग से वीर्य गाढ़ा होता है, नामर्दी, सुस्ती, शीघ्रपतन और स्वप्नदोष दूर होता है।

आम का विभिन्न रोगों में प्रयोग इस प्रकार है:-

चेहरे के रोग में आम का उपयोग || Uses and Benefits of Mango in Hindi

चेहरे का निखार

  • आम व जामुन की गुठली पीसकर चेहरे पर लगाएं। फिर पानी से धो लें। कुछ ही दिनों में धूप से झुलस कर काला हुआ रंग साफ हो जाता है।
  • आम के गूदे को 300 ग्राम दही में मिलाकर, चीनी व बर्फ मिलाकर, लस्सी बनाकर प्रतिदिन पीने से रंग निखरता है और भूख खुलती है।

पेट के रोग में आम का उपयोग || Uses and Benefits of Mango in Hindi

वायु रोग में आम के फायदे || Aam ke Fayde

आठ से 10 चम्मच मीठे आम का रस, दो चम्मच शहद मिलाकर सेवन करने से वायु रोगों में लाभ होता है।

खूनी दस्त

आधा चम्मच आम के पेड़ की छाल का रस, 125 ग्राम बकरी के दूध में मिलाकर पीने से लाभ होता है।

पेचिश में आम की गुठली के फायदे

आम की गुठली के गूदे का चूर्ण, बेल के रस व अदरक के रस के साथ मिलाकर खाने से लाभ होता है।

रक्त प्रदर व रक्ततासार

आम की भुनी हुई गिरी 25 ग्राम को जरा से नींबू के रस में घोलकर, उसमें 3 ग्राम काला नमक, 10 ग्राम अजवाइन को मिलाकर पीस लें। 2 ग्राम की मात्रा गर्म पानी के साथ सुबह-शाम भोजन के बाद लेने से रक्त प्रदर, संग्रहणी, रक्तातिसार व आमातिसार रोग में फायदा होता है।

पेट के कीड़े में आम की गुठली के फायदे

आम की गुठली पीसकर खाने से पेट के कीड़े निकल जाते हैं।

दस्त

  • आम की भीतरी छाल पीस कर, छानकर पानी व चीनी के साथ पीने से दस्त थम जाते हैं।
  • कच्चे आम और जामुन के पत्तों का रस गुनगुना करके दो से तीन चम्मच पीने से दस्तों में आराम मिलता है।
  • आम की गुठली की गिरी को पानी में पीसकर, नाभि पर लेप करने से दस्त रुक जाते है।

पाचन शक्ति बढ़ाना में आम के फायदे || Aam ke Fayde

आम का रस 50 ग्राम में 2 ग्राम पीसी सौंठ मिलाकर सेवन करने से पाचन शक्ति बढ़ती है।

हैजा

25 ग्राम आम का छिलका, 200 ग्राम दही में घोटकर, उसमे कपूर व नमक मिलाकर रोगी को देने से लाभ होता है।

कब्ज में आम के फायदे || Aam ke Fayde

  • हरे आम की चटनी, पुदीना, जीरा, नमक, काली मिर्च डालकर खाने से कब्ज दूर होती है।
  • आम की भुनी हुई गिरी, नमक मिलाकर, प्रतिदिन खाने से कब्ज दूर होती है।

संग्रहणी

ठंडे दूध में पके आम का गुदा मिलाकर 20 से 25 दिनों तक सेवन करने से यह रोग ठीक हो जाता है।

पेट दर्द में आम की गुठली के फायदे

आम की गुठली को आग में भूनकर, नमक मिलाकर खाने से लाभ होता है।

खूनी पेचिश

आम का छिलका (सूखा या हरा ) पीसकर, शहद के साथ मिलाकर सेवन करने से लाभ होता है।

चर्म (Skin) रोग में आम का उपयोग || Uses and Benefits of Mango in Hindi

दाद

आमचूर और सेंधा नमक पीसकर लेप करने से लाभ होता है।

कान व नाक के रोग में आम का उपयोग || Uses and Benefits of Mango in Hindi

कान का दर्द में आम के पत्ते के फायदे

आम के ताजा हरे पत्ते का रस गुनगुना गर्म करके कान में डालने से लाभ होता है।

नकसीर में आम की गुठली के फायदे

  • आम की गुठली की गिरी का रस नाक में टपकाने से खून बहना रुक जाता है।
  • आम के बोर को बारीक पीसकर, सूंघने से शीघ्र लाभ होता है।

स्त्री रोग में आम का उपयोग || Uses and Benefits of Mango in Hindi

श्वेत प्रदर

आम की बोर छाया में सुखाकर पीस लें। उसमें देसी खांड मिलाकर 7 ग्राम की मात्रा सुबह-शाम दूध या पानी के साथ लेने से लाभ होता है।

मासिक धर्म की अनियमितता में आम की गुठली के फायदे

आम की गुठली की गिरी को गर्म राख में भूनकर खाने से मासिक धर्म की अनियमितता दूर होती है।

अन्य रोग में आम का उपयोग || Uses and Benefits of Mango in Hindi

आग से जलना में आम के पत्तो के फायदे

शरीर का कोई भी अंग जल जाए तो आम के पत्तों की राख को घी अथवा पानी में मिलाकर, उस जगह पर लेप करने से फायदा होता है।

क्षय रोग

एक कप आम का रस, 50 ग्राम शहद के साथ सुबह-शाम पीने से क्षय रोग में बहुत आराम मिलता है।

खांसी

पके आम को भूभल में भूनकर, ठंडा करके चूसने से खांसी ठीक हो जाती है।

हाथ पैरों में जलन

आम की बोर रगड़ने से हाथ पैरों की जलन दूर होती है।

मस्तिष्क की कमजोरी

100 ग्राम आम का रस, 1 चम्मच अदरक का रस, 25 ग्राम दूध व चीनी मिलाकर, प्रतिदिन सेवन करने से दिमागी कमजोरी, आंखों के आगे अंधेरा छाना व पुराना सिरदर्द आदि रोग ठीक होते हैं।

रक्त विकार

ढाई सौ ग्राम पके आम का रस, 125 ग्राम गाय का दूध, 10 ग्राम घी , अदरक का रस व देसी शक्कर मिलाकर 2 महीने तक सुबह-शाम लेने से खून की खराबी खत्म होती है।

पथरी में आम के पत्तो के फायदे

आम के पत्ते छाया में सुखाकर पीस लें। आधा चम्मच की मात्रा में 1 दिन में 3 बार गर्म पानी से कुछ दिनों तक सेवन करें, पथरी में लाभ होगा।

प्रमेह

50 ग्राम पिसा हुआ आम का छिलका व 10 से 20 ग्राम चूने का पानी मिलाकर सुबह-शाम कुछ दिनों तक लेने से मूत्र के साथ मवाद आना व जलन बंद होती है।

अंड वृद्धि में आम के पत्तो के फायदे

20 ग्राम आम के पत्ते, 10 ग्राम सेंधा नमक को पीसकर, हल्का सा गर्म करके लेप करने से फायदा होता है।

नपुसंकता

  • आम के रस में शहद मिलाकर, प्रतिदिन प्रातः 15 से 20 दिनों तक प्रयोग करने से शिकायत दूर होती है।
  • 2 से 3 माह तक शाम को पके आमों का रस, चीनी, पानी और दूध मिलाकर पीने से मर्दाना ताकत बढ़ती है।

दमा में आम की गुठली का चूर्ण के फायदे

  • आम की गुठली का चूर्ण 5 ग्राम पानी के साथ प्रातः प्रयोग करें।
  • आम की गुठली का चूर्ण, शहद मिलाकर चाटने से लाभ होता है।

मूत्रावरोध में आम की जड़ का छिलका

  • आम की जड़ का छिलका व शीशम के पत्ते, 1 कप पानी में उबालकर, ठंडा होने पर मिश्री मिलाकर पीने से पेशाब खुलकर आने लगता है।
  • आम की गुठली का चूर्ण लिंग व पेडू पर लेप करने से फायदा होता है।

उल्टी

आम व पुदीने के पत्ते समान मात्रा में लेकर, काढ़ा बनाकर, शहद के साथ पिलाने से उल्टियां रुक जाती है।

लू लगना में कच्चे आम का पाना के फायदे

कच्चे आम का पाना बनाकर पीने से व कच्चे आम को आग में भूनकर, गूदा निकालकर, उसमें पानी, बर्फ या चीनी डालकर पीने से लू नहीं सताती।

बिवाइयां

  • आम का छिलका रगड़ने से बिवाइयां ठीक हो जाती हैं।
  • आमचूर का लेप करने से या कच्चे आम की चटनी का लेप करने से भी बिवाइयां ठीक हो जाती है।

बवासीर में कच्चे आम का रस के फायदे

  • कच्चे आम का रस प्रतिदिन पीने से लाभ होता है।
  • आम की पत्तियों को पीसकर, चीनी मिलाकर, पानी में घोलकर पीने से बवासीर 1 महीने में ठीक हो जाती है।

हृदय रोग में आमरस के फायदे

आमरस में आधा चम्मच अदरक का रस मिलाकर पीने से हृदय रोग में फायदा होता है।

तिल्ली में आम के रस के फायदे

100 ग्राम पके आम के रस में 15 ग्राम शहद मिलाकर, 3 सप्ताह तक पीने से तिल्ली की सूजन ठीक हो जाती है।

मधुमेह का काल है आम के पत्ते

  • मधुमेह प्रारंभिक स्थिति में हो तो आम के कोमल पत्तों का रस अथवा प्रातः काल आम के पत्तो का काढ़ा बनाकर पिए, रोग आगे नहीं बढ़ेगा तथा गंभीर रूप धारण नहीं करेगा।
  • आम के पत्तों को सुखाकर उनका चूर्ण बनाकर पानी के साथ दिन में 2 बार लेने से निश्चित रूप से लाभ होता है।
  • आम की गुठली का चूर्ण बनाकर 3 ग्राम की मात्रा में तीन से चार बार पानी के साथ सेवन करने से मूत्र में शर्करा की मात्रा कम होती है तथा मधुमेह के रोगी की प्यास शांत होती है।
  • आम व जामुन का रस समान मात्रा में मिलाकर, थोड़े समय तक पीने से मधुमेह में लाभ होता है।

मकड़ी का विष में आम की गुठली के फायदे

  • सूखा आम पानी में घिसकर लगाने से विष प्रभावहीन हो जाता है।
  • आम की गुठली पानी में घिसकर लगाने से जहरीले कीटों के कांटे का विष शांत हो जाता है।

गले का दर्द में आम के पत्तो के फायदे

आम के पत्तों को जलाकर, इसका धुआं पीने से गले में होने वाला दर्द ठीक हो जाता है।

People Also Ask:-

आम में कौन सा विटामिन है?

आम में विटामिन ‘ए’, विटामिन ‘बी’, विटामिन ‘सी’, विटामिन ‘डी’ र्याप्त मात्रा में मिलते हैं। इसमें साइट्रिक एसिड, गेलिक एसिड भी अल्प मात्रा में पाया जाता है। इनके अलावा सोडियम, पोटेशियम , ताम्र , गंधक, मैग्निसियम, क्लोरिन भी पाए जाते हैं |

Mango खाने से क्या होता है?

आम (Mango) शक्तिवर्धक और वीर्य वर्धक होते हैं। आम (Mango) खाने से मांस बढ़ता है, खून की मात्रा बढ़ती है और शरीर की थकान दूर होती है। नेत्र रोगियों को आम का सेवन करने से फायदा होता है। आम के प्रयोग से वीर्य गाढ़ा होता है, नामर्दी, सुस्ती, शीघ्रपतन और स्वप्नदोष दूर होता है।

आम की तासीर कैसी होती है?

आम गर्म फल है यानि आम की तासीर (Mango ki Taseer) गर्म होती है और अगर आप अधिक मात्रा में आम का सेवन करते हैं तो इससे आपके शरीर में गर्मी बढ़ सकती है और शरीर में गर्मी के करण पैदा होने वाले फोड़े, लाल चकते आदि हो सकते है। इससे बचने के लिए संतुलित मात्रा में ही आम का सेवन करे।

आम के पेड़ के कौन-कौन से हिस्से औषधि के रूप में उपयोग किये जाते है?

आम का वृक्ष (आम के पेड़) आयुर्वेदिक औषधियों का माना हुआ वृक्ष भी है। आम के पत्ते, पेड़ की छाल, उसके फूल, आम का फल, आम के वृक्ष की जड़, कोंपल, आम के फल की गुठली की गिरी, आम की गोँद सभी औषधियों के रूप में इस्तेमाल की जाती हैं।

आम को कैसे खाना चाहिए?

आम को 1 से 2 घंटे पानी में भिगोकर ही खाना चाहिए, वरना हाजमा खराब हो जाता है।

Leave a Comment