अनार की तासीर कैसी होती है ?

जो लोग अपने स्यास्थ्य के प्रति जागरूक होते है वे यह जरूर जानना चाहेंगे की अनार ठंडा है या गरम मतलब अनार की तासीर ठंडी होती है या गर्म ?

क्योकि आपको अगर अनार की तासीर की जानकारी है तो आप आसान से समझ सकते है की अनार को कौन-२ रोगो में प्रयोग में लाया जा सकता है। सेवन की जाने वाली चीज की तासीर ठंडी है या गर्म, यह जानकर आप आसानी से समझ सकते है की किसी रोग में उस चीज का सेवन करना है या नहीं।

अनार ठंडा है या गरम | अनार की तासीर | Anar ki Tasir

अनार लाल रंग का फल है जिसके अंदर लाल रंग के छोटे-छोटे, रसीले दाने समाये हुए होते है। यह स्वास्थ्यवर्धक गुणों से भरपूर होता है। यह इतना फायदेमंद होता है की इसका सेवन करने से दिल, दिमाग और आंखों की सेहत ठीक रहती है। विशेषज्ञों की माने तो अनार का प्रतिदिन सेवन करने से ह्रदय सम्बन्धी बिमारिओ का खतरा पूरी तरह से खत्म हो जाता है।

अनार ठंडा है या गरम अनार की तासीर

यहां आपको बता दे की अनार ठंडा होता है यानि अनार की तासीर ठंडी होती है। इसी कारण से शाम या रात के समय और अनेक रोगो में इसका सेवन करने से बचना चाहिए। और इसी कारण बहुत से ऐसे रोग है जिनमे अनार का उपयोग करना चाहिए और बहुत से ऐसे भी है जिनमे इसका उपयोग नहीं करना चाहिए। आइये जानते है इस बारे में।

अनार के फायदे | Pomegranate Benefits For Health | Anar ke Fayde

अनार पौष्टिक तत्वों से भरपूर होता है। इसका सेवन बहुत से रोगो में लाभ पंहुचा सकता है। आयुर्वेदा का अनुसार पित्ताशय की पथरी में अनार को पथ्य माना गया है। आइये इस बारे में और अधिक जानते है की किस-किस रोग से पीड़ित व्यक्तिओ के लिए अनार या अनार के रस का सेवन करना फायदेमंद होता है।

रक्त बढ़ाने में सहायक (Anar Increases Blood Level)

शरीर में खून बढ़ाने के लिए चिकित्सक सबसे पहले अनार खाने की सलाह देते है। अनार के बीज और उनमे मौजूद रस शरीर में खून की मात्रा बढ़ाने में सहायक होता है। एनीमिया के मरीज के लिए प्रतिदिन अनार का सेवन करना बहुत आवशयक हैं।

शुगर लेवल को कंट्रोल करने में सहायक (Pomegranate maintain Blood Sugar Level)

फलो के रस में ग्लूकोस नहीं होता, इनमे फ्रुक्टोज होता है। अनार के रस में मौजूद फ्रुक्टोज रक्त में शुगर की मात्रा को नहीं बढ़ाता। इसलिए एक निश्चित मात्रा में अनार का सेवन करने से शुगर लेवल स्पाइक नहीं करता।

ब्लडप्रेशर नियंत्रित रखे (Anar control Blood Pressure)

अनार और अनार का रस शरीर में रक्त के दवाब पर नियंत्रण रखता है जिससे भी ब्लडप्रेशर नियंत्रित रहता हैं। यह दिल के मरीज को बहुत अधिक फायदा पहुँचता है। यह रक्त वाहिकाओं को साफ़ करके शरीर में रक्त के प्रवाह को बनाये रखता है।

कैंसर के खतरे को कम करे (Pomegranate good For Cancer Patient)

अनार में प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते है जो कि शरीर में मौजूद विषैले तत्वों को शरीर से बाहर निकालने में सहायक होते है। फ्लेवोनॉइड्स कैंसर रोधी एंटीऑक्सीडेंट होता है जो अनार में मौजूद होता है | यह WBC और शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत करके शरीर की रोगो से लड़ने में सहायता करता है। इस तरह अनार के रोजाना सेवन से कैंसर की बीमारी को बढ़ने रोकने में सहायक होता है।

पाचन तंत्र को सुधारता हैं अनार (Anar/ Pomegranate Improves Digestion System)

पेट, लीवर और ह्रदय के सही से कार्य करने के लिए आवशयक पोषक तत्व अनार में पाए जाते है। इसके सेवन से भूख बढ़ती हैं, यूरिन संबंधी परेशानी ठीक होती है। अनार में बहुत अधिक मात्रा में घुलनशील एवं अघुलनशील फाइबर मौजूद होता है जिससे पाचन तंत्र को फायदा पहुँचता है और वजन कम करने में सहायता मिलती है।

अनार के फायदे और अन्य रोगो में उपयोग की विधि की जानकारी के लिए पढ़े

Uses and Benefits of Pomegranate in Hindi || अनार के फायदे

अनार के नुकसान | Anar ke Nuksan

  • अगर आपके शरीर की तासीर ठंडी है अनार का सेवन आपके शरीर में ठण्ड की प्रकृति को बढ़ा कर, आपको नुकसान पंहुचा सकता है।
  • ऐसे रोग जिनमे ठंडी तासीर वाली वस्तुए खाना मना होती है, उनमे अनार का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • आप इंफ्लूएंजा, खांसी अथवा कब्ज जैसे रोगो से पीड़ित है तो आपको अनार का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योकि ठंडी तासीर वाला अनार इन रोगो के प्रकोप को और भी बढ़ा सकता है।
  • अगर आप किसी भी तरह की एलर्जी से पीड़ित है तो अनार का सेवन उस एलर्जी को बढ़ा सकता हैं।
  • अगर आप किसी बीमारी के इलाज की दवाइया ले रहे है तो अनार का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवशय ले ले।

अनार जूस कब पीना चाहिए?

अनार की तासीर ठंडी होती है इसलिए शाम या रात के समय इसका सेवन करने से बचना चाहिए। सुबह खाली पेट आनार या अनार के जूस का सेवन कर सकते हैं। इसे खाना खाने के एक घंटे पहले या बाद में लें।

अनार को कब खाना चाहिए?

अनार एनर्जी से भरपूर होता है। इसे खाने से शरीर में एनर्जी बनी रहती है इसलिए अनार को सुबह खाना चाहिए क्योकि इससे आप पुरे दिन एनर्जी से भरे रहेंगे और अपने आप को तरोताजा महसूस करेंगे।

disclaimer

हम उम्मीद करते है की अनार ठंडा है या गरम (Anar Thand Hai Ya Grm) मतलब अनार की तासीर ठंडी होती है या गर्म (Anar Ki Tasir), विषय पर दी गई जानकारी आपके लिए फायदेमंद रहेगी।

Specially For You:-

ganne ka juice
गन्ने के रस के 9 फायदे और नुकसान
गन्ने के रस के फायदे और नुकसान (Ganne Ke Ras Ke Fayde Aur Nuksan) - गन्ने का रस (Ganna ke ...
Read More
papita ke patte ke fayde
Papita ke Patte ke Fayde | पपीता के पत्ते का जूस [10 फायदे ]
पपीते के पत्ते के फायदे - पपीता सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है लेकिन क्या आप जानते है पपीता ...
Read More

पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय

कमर दर्द का इलाज

आम || Aam ke fayde || Uses and Benefits of Mango in Hindi

लहसुन के फायदे, विभिन्न रोगों में उपयोग की विधि | Uses and Health Benefits of Garlic in Hindi

अनार के फायदे और विभिन्न रोगो में प्रयोग की विधि की जानकारी

DMCA.com Protection Status