सिर्फ फायदा चाहिए तो इतनी मात्रा में करें दालचीनी का सेवन, नहीं तो पड़ सकते हैं लेने के देने

दालचीनी के नुकसान || दालचीनी कितनी लेनी चाहिए?

#दालचीनी || दारचीनी


खाने के शौकीन लोगो के ये लिए दालचीनी खाने में स्वाद और सुगंध बढ़ाने वाला एक नायब मसाला है | लेकिन कई लोग यह नहीं जानते होंगे की दालचीनी बहुत औषधीय गुणों से भरपूर होता है और बड़ी-2 बीमारीओं को ठीक करने में सक्षम है |

#दालचीनी, दारचीनी, दालचीनी कितनी लेनी चाहिए, दालचीनी के नुकसान

दारचीनी || दालचीनी क्या है इन हिंदी?

दालचीनी एक ऐसा मसाला है, जो दालचीनी नामक पेड़ों की आंतरिक छाल से बनाया जाता है। इसकी छाल को उतारकर धुप में सुखाया जाता है | औषधीय गुणों से भरपूर दालचीनी सेहत के लिए बहुत गुणकारी होती है जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करने से लेकर हार्ट अटैक (Heart Attack) के खतरे को कम करने तक कई बीमारीओं को दूर करने में फायदेमंद है।

दालचीनी की तासीर ठंडी या गर्म || दालचीनी की तासीर ठंडी होती है या गर्म

दालचीनी एक ऐसा मसाला है जिसकी तासीर गर्म होती है, इसलिए सर्दियों में होने वाली आम शारीरिक परेशानियों जैसे सर्दी-जुकाम के साथ ही यह पेट की चर्बी, वजन घटाने और डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारियों का उपचार करने में सहायक होती है।

दालचीनी की तासीर गर्म होने के कारण यह गुणकारी मसाला तभी सेहत के लिए फायदेमंद होता है जब इसका सेवन सीमित मात्रा में किया जाए नहीं तो यह सेहत को नुकसान भी पंहुचा सकती है और जान के लिए खतरे की वजह भी बन सकती है | आइये दोस्तों, जानते है दालचीनी के अधिक सेवन से शरीर को होने वाले नुकसानों के बारे में (दालचीनी के नुकसान)…

दालचीनी के नुकसान

ब्लड प्रेशर बेहद तेजी से नीचे आने का खतरा

दालचीनी एक ऐसी प्राकृतिक औषधि है, जिसका सही मात्रा में सेवन करने पर हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को कंट्रोल करने में सहायता मिलती है। साथ ही डायबीटीज के मरीजों के लिए यह ब्लड में शुगर की मात्रा को भी नियंत्रित करने में सहायक होती है।

लेकिन अगर अधिक मात्रा से दालचीनी का सेवन किया जाए तो ब्लड प्रेशर बहुत तेजी से कम भी हो सकता है, जो हानिकारक हो सकता है। अधिक मात्रा में दालचीनी का नियमित उपयोग से थकान, उनींदापन और चक्कर आने की समस्या भी हो सकती है इसलिए हमेशा सही मात्रा में ही दालचीनी का उपयोग करे |

Fructoz || कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना || फैट बढ़ना || ब्लड प्रेशर || फैटी लिवर जैसी बीमारियां का मुख्य कारण और बचाव

लीवर होने और कैंसर का खतरा

दालचीनी में उच्च मात्रा में Coumarin होता है। लगातार लंबे समय तक और अधिक मात्रा में दालचीनी का उपयोग करने से लिवर पर दबाव पड़ता है जिस कारण लीवर डैमेज का खतरा बढ़ जाता है। कई अलग-अलग रिसर्च में यह बात साबित हो चुकी है कि दालचीनी का अधिक सेवन लीवर को नुकसान पहुंचाता है।

6 Foods That Naturally Cleanse the Liver in हिंदी

दालचीनी के नुकसान
दालचीनी के नुकसान

यदि मात्रा (Quantity) का ध्यान रखे बिना लगातार दालचीनी का सेवन कैंसर के खतरे को बढ़ा देता है। पशु अध्ययन में पाया गया है कि Coumarin कुछ प्रकार के कैंसर के खतरे को बढ़ा सकता है। हालांकि, यह निर्धारित करने के लिए अधिक शोध की आवश्यकता है कि क्या यह मनुष्यों पर भी लागू होता है।

दारचीनी बन सकती है सांस में परेशानी की वजह

दालचीनी की चाय और काढ़ा हमारे रेस्पिरेट्री सिस्टम को साफ (Clean) करने और हेल्दी रखने में मदद करता है | वही अधिक मात्रा में दालचीनी का उपयोग किया जाये तो सांस से जुड़े रोग भी हो सकता हैं।

एक बार में अधिक दालचीनी का उपयोग करने पर आपको खांसी, गले में खराश, जलन और सांस लेने में समस्या हो सकती है इसलिए जिन लोगों को अस्थमा और सांस से जुड़ी दूसरी समस्याएं हों उन्हें सीमित मात्रा में ही दालचीनी का उपयोग करना चाहिए।

मुंह में छाले और घाव होना का खतरा

दालचीनी में cinnamaldehyde नामक एक योगिक होता है जिसका अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर में एलर्जिक रिएक्शन (Allergic Reaction) शुरू हो जाता है | ऐसा इसलिए होता है क्योंकि यह कंपाउंड हमारे मुंह में मौजूद सलाइवा के कारण लंबे समय तक हमारी जीभ और मुंह की अंदरूनी त्वचा के संपर्क में रहता हैजिस कारण एलर्जिक रिएक्शन की शुरुआत होती है |

और अगर अधिक मात्रा में दालचीनी का सेवन किया जाये तो यह रिएक्शन मुंह में छालो और साथ ही जीभ में छालो का कारण बनता है और मुंह के अंदर इचिंग, सेंसेशन या गले में जलन की दिक्कत हो सकती है। साथ ही मुंह के अंदर सफेद रंग के पैच भी बन सकते हैं।

हालांकि, यह ज्यादातर उन लोगों को प्रभावित करता है जो बहुत अधिक दालचीनी तेल या च्यूइंग गम का उपयोग करते हैं या बहुत अधिक मात्रा में दालचीनी का सेवन करते है, क्योंकि इन उत्पादों (च्यूइंग गम ) में अधिक दालचीनी होता है।

#दालचीनी, दारचीनी, दालचीनी कितनी लेनी चाहिए, दालचीनी के नुकसान

एक टेबलस्पून भी है खतरनाक

एक्सपर्ट्स की मानें तो लगभग 55-60 किलो वजन के एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए दिनभर में 5 मिलीग्राम दालचीनी काफी होती है जबकि छोटे बच्चो के लिए तो यह और कम है । यह मात्रा एक चम्मच से भी काफी कम होती है।

अगर आप एक पूरे दिन में एक चम्मच दालचीनी का उपयोग अपने भोजन में करते हैं, तब भी आप सीमित मात्रा से अधिक दालचीनी का उपयोग कर रहे हैं।

निष्कर्ष

दालचीनी एक स्वादिष्ट मसाला है, जो हमारे शरीर को कई तरह के स्वास्थ्य लाभ देता है लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से शरीर को फायदे की बजाए नुकसान हो सकता है ।

दालचीनी

यह भी पढ़ें: 

Cinnamon And Honey Benefits in Hindi

#Diabetes || #मधुमेह को नियंत्रण में रखने के लिए क्या खाये क्या नहीं || Food for Diabetes

Milk in Hindi || आयुर्वेदा के अनुसार दूध क्या है? || दूध को उबालना क्यों चाहिए?

जरूर जानिए सोंठ खाने के फायदे और नुकसान || सोंठ के हैरान कर देने वाले 15 फायदे || सोंठ की तासीर

 

Leave a Comment

Ayurveda And Natural Health Tips