पेट में मरोड़ उठना और दस्त लगना, जानें इस Medical Emergency क्या करे ?

What to eat During Loose Motion, पेट में मरोड़ उठना, पेट में मरोड़ का इलाज और दस्त लगना, stool पानी की तरह बह रहा है तो जानें इस Medical Emergency क्या करे और पेट में मरोड़ और दस्त की दवा | 

डायरिया, पेट में मरोड़ और दस्त होने पर आप जीवन रक्षक घोल (ORS) का सेवन करते रहें। यदि इलेक्ट्रॉल पाउडर (ओआरएस) उपलब्ध ना हो तो आप घर में गुनगुने पानी में नमक (बेहतर रहेगा की सैंधा नमक का इस्तेमाल करे), चीनी का घोल बनाकर भी ले सकते हैं। इससे शरीर में आवश्यक तत्वों की कमी नहीं होगी और शरीर में ताकत बनी रहेगी।

एक्यूट डायरिया : पेट में मरोड़ और दस्त

अगर आपके पेट में बार बार मरोड़ (Cramps) की दिक्कत हो रही है, पेट दर्द हो रहा है और इसके तुरंत बाद आपको टॉयलेट इस्तेमाल करना पड़ रहा है और आपका stool पानी की तरह बह रहा है तो यह एक एक्यूट डायरिया की स्थिति हो सकती है।

डायरिया (Diarrhea) एक ऐसी स्वास्थ्य सम्बन्धी स्थिति होती है, जिसमें व्यक्ति को बार-बार पॉटी (Loose motions) आती है। साथ ही रह-रहकर उल्टी (Vomiting) आने की समस्या भी हो सकती है…

पेट में मरोड़ और दस्त की दवा

एक्यूट डायरिया से पीड़ित होने पर मरीज को पॉटी से पहले पेट में मरोड़ (Cramps) पड़ते है और पॉटी करते वक़्त भी पेट में दर्द रहता है। पॉटी अत्यधिक पतली होती है और इसमें पानी की मात्रा अधिक होती है।

एक्यूट डायरिया तब होता है जब यह स्थिति एक से दो दिनों तक रहती है। वायरल या जीवाणु संक्रमण, food poisoning के परिणामस्वरूप दस्त का अनुभव कर सकते हैं।

यहां जानें, एक्यूट डायरिया और दस्त पर कुछ आवश्यक जानकारी और पेट में मरोड़ का इलाज जिनका लाभ उठा कर आप इस स्थिति को कंट्रोल कर सकते है, सुधार सकते है…

दस्त लगने पर शरीर में पानी, जरुरी मिनरल्स और विटामिन्स की कमी को ऐसे करे दूर

सबसे पहले इस बात को जान लें कि डायरिया, पेट में मरोड़ और दस्त होने पर सबसे अधिक खतरा इस बात का होता है कि आपके शरीर में पानी और शरीर को सुचारु रूप से चलने वाले जरुरी मिनरल्स और विटामिन्स की कमी हो सकती है। इस कारण शरीर में कमजोरी का अनुभव हो सकता है और आपका स्वास्थ्य तेजी से खराब हो सकता है।

डायरिया, पेट में मरोड़ और दस्त होने पर आपको सबसे ज्यादा ध्यान अपने आप को ऐसी स्थिति से बचाने पर होना चाहिए और इस स्थिति से बचने के लिए आप जीवन रक्षक घोल (ORS) का सेवन करते रहें।

यदि इलेक्ट्रॉल पाउडर (ओआरएस) उपलब्ध ना हो तो आप घर में गुनगुने पानी में नमक (बेहतर रहेगा की सैंधा नमक का इस्तेमाल करे), चीनी का घोल बनाकर भी ले सकते हैं।

इसके लिए एक गिलास पानी को उबाल कर नार्मल टेम्प्रेचर आने तक ठंडा कर ले फिर उसमे 2 से 3 चम्मच चीनी और थोड़ा सा नमक मिलाकार घोल लें। फिर इसे घूंट-घूंट कर थोड़ी-२ देर 5-10 Min का समय दे कर पिएं। डायरिया, पेट में मरोड़ और दस्त की स्थिति में एकसाथ ज्यादा घोल का सेवन ना करे

पेट में मरोड़ उठना और लूज पॉटी आना

पेट में मरोड़ का इलाज

कैसे कर सकते हैं इस स्थिति पर नियंत्रण?

एक्यूट डायरिया, पेट में मरोड़ और दस्त की स्थिति पाचनतंत्र के खराब होने के कारण होती है इसलिए इससे निपटने के लिए आप सबसे पहले अपने खान-पान पर ध्यान दें और ऐसा भोजन ले जो आपके पाचनतंत्र पर दबाव ना डाले, आसानी से पच जाये और जो आपके मोशन में सुधार करे।

जब मोशन में सुधार होने लगे तब भी लंबे समय तक अपने खान-पान पर कंट्रोल रखे, नजर बनाये रखे ताकि आपका शरीर आपके पाचनतंत्र, आंतों और लिवर को हील कर सके…

दस्त का इलाज || दस्त (Loose Motion) रोकने के घरेलू इलाज और उपाय

खान-पान में इन्हें शामिल करें

What to eat During Loose Motion

आप अपनी डायट में दही खिचड़ी, पका हुआ केला, चावल, छांछ, सूजी के टोस्ट और सेब शामिल करें। ध्यान रखें कि डायरिया, पेट में मरोड़ और दस्त की स्थिति में पाचनतंत्र बहुत अधिक कमजोर होता है इसलिए किसी भी चीज का एकसाथ अधिक मात्रा में सेवन ना करे और सेब को छीलकर ही उपयोग में लाएं क्योंकि सेब का गुदा तो आसानी से पच जाता है जबकि उसके छिलके को पचाने में शरीर को अधिक कार्य करना पड़ता है।

पका हुआ केला रोकता है लूज मोशन || पेट में मरोड़ का इलाज

पेट में मरोड़ का इलाज

पका हुआ केला लूज मोशन को रोकने में सहायक होता है। साथ ही आंतों और लिवर के लिए बहुत अधिक लाभकारी होता है। मरोड़ युक्त पेचिश ठीक करने के लिए २ केले ले | उनके गूदे में काला नमक मिला कर रोगी को दिन में २-३ बार खिलाने से डायरिया में आराम मिलता है |

इससे शरीर के लिए आवश्यक खनिज सोडियम की पूरी होती है । आपका बीपी भी सामान्य रखने में सहायता मिलेगी।

मूंग दाल की खिचड़ी सबसे गुणकारी || पेट में मरोड़ का इलाज

छिलके वाली हरी मूंगदाल की खिचड़ी डायरिया की स्थिति में सबसे अधिक पौष्टिक, हल्का और लाभकारी भोजन होता है। ध्यान रखे की डायरिया के मरीज के लिए इस खिचड़ी को थोड़ा-सा अधिक पानी में पकाएं ताकि यह सॉफ्ट और लूज बने और अगर इस खिचड़ी को दही और थोड़ी सी काली मिर्च डाल कर खाया जाये तो यह सोने पर सुहागा वाली बात हो जाती है।

इससे आपके पेट को यह खिचड़ी पचाने में आसानी होगी। आप इस खिचड़ी में थोड़ा सा देसी घी मिलाकर भी रोगी को खाने के लिए दे सकते है ।

दही और देसी घी दोनों ही आपके शरीर में कमजोरी नहीं आने देंगे। ध्यान रखें की दही खट्टा न हो क्योंकि खट्टा दही पेट में दर्द का कारण बन सकती है। इसलिए इसे ना खाएं।

You May Also Like To Read These Articles Too …

गर्मियों के रोग के आयुर्वेदिक उपचार हिंदी में
ग्रीष्म ऋतु रोगों के सरल उपाय
गर्मियों के रोग के आयुर्वेदिक उपचार हिंदी में - गर्मी यानि ग्रीष्म ऋतू अपने साथ अनेको फायदे लेकर तो आती ...
Read More
बवासीर में लहसुन खाना चाहिए या नहीं
बवासीर में लहसुन खाना चाहिए या नहीं
बवासीर में लहसुन खाना चाहिए या नहीं (Garlic for Piles Patient) - बवासीर एक ऐसा रोग है जिसमे गर्म तासीर ...
Read More
दिमाग तेज करने के उपाय हिंदी में How To Sharpen Your Mind In Hindi
दिमाग तेज करने के उपाय हिंदी में
दिमाग तेज करने के उपाय हिंदी में (How To Sharpen Your Mind In Hindi)- आजकल की तेज भागती दुनिया में ...
Read More
दूध की चाय पीने के फायदे और नुकसान
दूध की चाय पीने के फायदे और नुकसान
दूध की चाय पीने के फायदे और नुकसान (Dudh Wali Chai Pine Ke Fayde Or Nuksan) - दुनियाभर में पी ...
Read More
शहद से मर्दाना ताकत बढ़ाने के उपाय
शहद से मर्दाना ताकत बढ़ाने के उपाय
शहद से मर्दाना ताकत बढ़ाने के उपाय - शहद से मर्दाना ताकत को कई गुना बढ़ाया जा सकता है। ऐसे ...
Read More
काली तुलसी के फायदे
काली तुलसी के फायदे
तुलसी एक पवित्र पौधा है जिसे घर पर लगाना शुभ माना जाता है। इतना ही नहीं तुलसी स्वास्थ्य के लिए ...
Read More
गले में खराश के घरेलू उपाय Gale mein Kharash ke Gharelu Upay
गले में खराश के घरेलू उपाय | Gale mein Kharash ke Gharelu Upay
गले में खराश होने एक आम समस्या है जिससे बड़ो से लेकर बच्चे तक अक्सर परेशान रहते है। करोना वायरस ...
Read More
दूध और अंजीर खाने के फायदे
दूध में अंजीर खाने के फायदे
दूध में अंजीर खाने के फायदे - आयुर्वेदा में दूध को सम्पूर्ण आहार माना गया है जो हमारे शारीरिक स्वास्थ्य ...
Read More
पेट में वायु गोला की दवा
पेट में वायु गोला की दवा
पेट में वायु गोला बनना पाचन क्रिया की गड़बड़ी के करण होने वाला एक रोग है। जो अपने साथ अनेको ...
Read More
बवासीर में दूध पीना चाहिए या नहीं
बवासीर में दूध पीना चाहिए या नहीं ? | क्या बवासीर में दूध पीना चाहिए ?
आयुर्वेदा और शास्त्रों के अनुसार दूध पृथ्वीलोक का अमृत है। यह एक सम्पूर्ण आहार है। वहीँ बवासीर बहुत ही भयानक ...
Read More
शुगर में मटन खाना चाहिए या नहीं
डायबिटीज यानि शुगर में मटन खाना चाहिए या नहीं
शुगर में मटन खाना चाहिए या नहीं (Sugar Patients Can Eat Mutton in Hindi) - अगर आप मीट खाने के ...
Read More
हाई रिस्क प्रेगनेंसी केअर High Risk Pregnancy Care in Hindi
हाई रिस्क प्रेगनेंसी केअर
हाई रिस्क प्रेगनेंसी केअर (High Risk Pregnancy Care in Hindi)- हाई रिस्क प्रेगनेंसी मां-बच्चे दोनों या दोनों में से किसी ...
Read More
थायराइड में कौन सा जूस पीना चाहिए
थायराइड में कौन सा जूस पीना चाहिए
थायराइड में कौन सा जूस पीना चाहिए (Thyroid me kon sa juice peena chahiye) - जूस हमारी सेहत के लिए ...
Read More
किडनी इन्फेक्शन में क्या नहीं खाना चाहिए
किडनी इन्फेक्शन में क्या नहीं खाना चाहिए
किडनी इन्फेक्शन में क्या नहीं खाना चाहिए (Kidney Infection Me Kya Nahi Khana Chahiye) - किडनी में इन्फेक्शन होने पर ...
Read More
महिलाओं में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए
महिलाओं में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए?
महिलाओं में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए (Mahilao me Hemoglobin Kitna Hona Chahiye)- हीमोग्लोबिन की मात्रा महिलाओ और पुरुषो के शरीर ...
Read More
दांत टूटने पर क्या करे
टुटा दांत वापिस लग सकता है, जानिए क्या है तरीका
दांत टूटने पर क्या करे (Dant Tutne Pr Kya Kare)– दांत टूटने के अनेको कारण हो सकते है और अगर ...
Read More
बीपी लो के बारे में जानकारी Low BP in Hindi
लो ब्लड प्रेशर के कारण, लक्षण और उपचार
बीपी लो के बारे में जानकारी (Low BP in Hindi)- लो ब्लड प्रेशर, लो बी पी के कारण, लो ब्लड ...
Read More
गर्मियों के रोग के आयुर्वेदिक उपचार हिंदी में
ग्रीष्म ऋतु रोगों के सरल उपाय
गर्मियों के रोग के आयुर्वेदिक उपचार हिंदी में - गर्मी यानि ग्रीष्म ऋतू अपने साथ अनेको फायदे लेकर तो आती ...
Read More
बवासीर में लहसुन खाना चाहिए या नहीं
बवासीर में लहसुन खाना चाहिए या नहीं
बवासीर में लहसुन खाना चाहिए या नहीं (Garlic for Piles Patient) - बवासीर एक ऐसा रोग है जिसमे गर्म तासीर ...
Read More
थायराइड में चावल खाना चाहिए या नहीं
थायराइड में चावल खाना चाहिए या नहीं?
थायराइड में चावल खाना चाहिए या नहीं (Thyroid Me Chawal Khana Chahiye Ya Nahi) - क्या थाइराइड में चावल खा ...
Read More

पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय

कमर दर्द का इलाज

आम || Aam ke fayde || Uses and Benefits of Mango in Hindi

लहसुन के फायदे, विभिन्न रोगों में उपयोग की विधि | Uses and Health Benefits of Garlic in Hindi

अनार के फायदे और विभिन्न रोगो में प्रयोग की विधि की जानकारी

DMCA.com Protection Status