विटामिन ए की कमी से जुडी जानकारी

विटामिन ए की कमी (Vitamin A ki Kami)– विटामिन A शरीर के सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए बहुत ही आवश्यक विटामिन है। विटामिन A की कमी शरीर में अनेक रोगो को जन्म दे सकती है।

विटामिन ए की कमी | Vitamin A ki Kami

बड़े, बुजुर्गो, गर्भवती महिलाओं और बच्चों में विटामिन ए की कमी अनेक रोगो को जन्म दे सकती है। इसकी कमी के कारण आँखों के रोग जैसे आँखों का कमजोर होना, रतौंधी, आंख के सफेद हिस्से में धब्बे, शरीर में कैल्शियम की कमी, आदि समस्याएं जन्म ले सकती है। हड्डियों का कमजोर होना, रूखी-सुखी त्वचा, थकावट आदि समस्याएं पैदा हो जाती है।

शरीर को स्वस्थ रखने में विटामिन A बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है | इस लेख में विटामिन ‘ए’ के महत्वपूर्ण कार्य, सोर्स ऑफ विटामिन ए (Vitamin A foods,) आदि टॉपिक्स पर जानकारी दी गई है |

Vitamin A || अगर आप स्वस्थ रहना चाहते है तो विटामिन ‘A’ की कमी न होने दे

विटामिन्स हमारे शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्व हैं, प्रत्येक विटामिन का हमारे शरीर में एक विशिष्ट और महत्वपूर्ण कार्य है । हालाँकि, हमारा शरीर विटामिन्स का उत्पादन करने में सक्षम नहीं है, इसलिए, यह जानना कि हमारे शरीर को जरूरी विटामिन्स कहाँ-२ से मिल सकते है, अत्यंत आवश्यक है क्योंकि उनमें से एक की भी कमी हमारे शरीर को प्रभावित करने और कई बीमारियों का कारण बनने जैसे आपकी आंखों, त्वचा की बीमारिया और यहां तक ​​कि मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी काफी हानिकारक है |

उनमें से एक विटामिन है विटामिन ‘A’ । 

विटामिन ए (Vitamin A)

भले ही विटामिन ‘A’ कई खाद्य पदार्थों में मौजूद हो, फिर भी 5 वर्ष से कम आयु के एक तिहाई बच्चे विटामिन ए की कमी से पीड़ित हैं | विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक अध्ययन के अनुसार, बच्चों में विटामिन ए की कमी घातक हो सकती है | एशिया और अफ्रीका के कुछ देशों में इसे शिशु के अंधापन का कारण भी माना जाता है ।

क्या आप जानना चाहते हैं कि विटामिन A आपके स्वास्थ्य के लिए कितना फायदेमंद है ? | विटामिन ए के कार्य

विटामिन ‘ए’ के कुछ महत्वपूर्ण कार्य जैसे:

  • दृष्टि में सुधार लाना ,
  • शारीरिक विकास में मदद करना,
  • दांतों का निर्माण करना,
  • कोलेजन गठन, और
  • सेल नवीकरण
  • बीमारी और संक्रमण के खिलाफ आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को ठीक से काम करने में मदद करना
  • त्वचा को स्वस्थ बनाये रखना

विटामिन ए की कमी से रोग | विटामिन ए की कमी से होने वाले रोग

विटामिन ए की कमी से गंभीर स्वास्थ्य से जुडी समस्याएं हो सकती हैं।

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, विटामिन ए की कमी दुनिया भर में बच्चों में रोके जा सकने वाले अंधेपन का प्रमुख कारण है। (1)
  • विटामिन ए की कमी से खसरा और दस्त जैसे संक्रमणों से मरने का जोखिम भी बढ़ जाता है। (2,3)
  • विटामिन ए की कमी से गर्भवती महिलाओं में एनीमिया और मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है और विकास और विकास को धीमा करके भ्रूण पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। (4)
  • विटामिन ए की कमी के कम गंभीर लक्षणों में त्वचा की समस्याएं जैसे हाइपरकेराटोसिस और मुँहासे आदि हो सकते हैं। (5,6)

विटामिन ए की कमी के लक्षण | Vitamin A Ki Kami Ke Lakshan

  • सूखी आंखें
  • कम रौशनी में न दिखाई देना
  • अधिक खुजली आना और त्वचा का सूखापन
  • बच्चो का शारीरिक विकास न होना
  • गले और छाती में बार बार होने वाला संक्रमण
  • घावों का जल्दी न भरना
  • गर्भवती महिलाओं में एनीमिया की समस्या होना

विटामिन ए के फायदे | विटामिन A के फायदे

आपकी आंखों के लिए अच्छा है

आपकी मम्मी ने आपसे ज़रूर कहा है कि गाजर खाना आपकी दृष्टि के लिए अच्छा है। और वह गलत नहीं था। गाजर में पाया जाने वाला विटामिन A आपकी दृष्टि सही बनाये रखने में मदद करता है क्योंकि यह कॉर्निया, जो की आपकी आँखों का एक भाग है, की रक्षा करता है |
पर्याप्त मात्रा में विटामिन A का सेवन न करना मंद रोशनी वाली जगहों पर देखने में कठिनाई, आंखों में बदलाव का कारण भी बनता है। कुछ मामलों में, यह अंधापन का कारण भी बनता है |

सोर्स ऑफ विटामिन ए || vitamin a foods

प्रतिरक्षा में सुधार (Improves immunity)

विटामिन ए की कमी आपको बीमारियों के लिए अतिसंवेदनशील बना सकती है । विटामिन ए प्रतिरक्षा प्रणाली को नियंत्रित करता है और सफेद रक्त कोशिकाओं को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जो शरीर में संक्रमण से लड़ते हैं।

विटामिन ए शारीरिक विकास के लिए आवश्यक (Contributes to growth)

विटामिन ए शारीरिक विकास के लिए बहुत अच्छा है | शरीर के अंगों जैसे: आंखें, आंतें, फेफड़े, और जननांग की श्लेष्म (mucous lining) को बनाए रखने के लिए आपको विटामिन ए का सेवन करना चाहिए | यह सफेद कोशिकाओं के लिए, जो हमारे शरीर में होने वाले संक्रामक रोग से बचाव के लिए जिम्मेदार हैं, के विकास में योगदान देता है |
इतना ही नहीं विटामिन ए शारीरिक विकास और कोशिका विभाजन के लिए जिम्मेवार वृद्धि हार्मोन, जीएच के गठन में सहायता करता है ।

आपकी त्वचा के लिए महत्वपूर्ण

यदि आप मुँहासे की समस्या से पीड़ित हैं, तो विटामिन ए का सेवन करें। यह मुँहासे के विकास को रोकता है |

कैंसर से बचाव में सहायक

अध्ययनों से पता चलता है कि बीटा-कैरोटीन और विटामिन ए कई प्रकार के कैंसर के जोखिम को कम करता है। (7) यह प्रभाव मुख्य रूप से ऐसी सब्जियों के सेवन से होता है जिनमे विटामिन A भरपूर मात्रा में पाया जाता है। सुप्प्लिमेंट्स के रूप में लिया गया विटामिन ए कैंसर के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करने में उतना प्रभावी नहीं होता। धूम्रपान करने वालों या फेफड़ों के कैंसर के उच्च जोखिम वाले लोगों में फेफड़ों के कैंसर के जोखिम और प्रगति को बढ़ाने के लिए विटामिन ए और कैरोटीन से भरपूर भोजन का सेवन करना चाहिए। (8,9,10)

भोजन के तुरंत पहले, बीच में और बाद पानी पीना सही है या गलत?

सोर्स ऑफ विटामिन ए | Vitamin A Foods in Hindi

अब जब आप इस के सभी लाभों को जानते हैं तो आप यह भी जानना चाहेंगे की विटामिन ‘A’ के लिए हमें कौन-२ से खाद्य पदार्थ खाने चाहिए ?

  • विटामिन ‘A’ लिपोसोलेबल विटामिन के समूह का हिस्सा है |
  • पशुओ से प्राप्त खाद्य पदार्थों में रेटिनोइड्स के रूप में पाया जा सकता है जैसे अंडे, दूध, चिकन में , और
  • सब्जियों में, कैरोटीनॉयड के रूप में, बीटा कैरोटीन की तरह । इसके अलावा Vitamin A रंगीन खाद्य पदार्थों में मौजूद होता है |
  • साथ ही पनीर, दूध, अंडे, शकरकंद, आम, पपीता, नारंगी, कद्दू, खुबानी, गाजर, ब्रोकोली, पालक, और आड़ू उन सभी लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है जो स्वाभाविक रूप से अपने विटामिन ‘A’ के स्तर में सुधार लाना चाहते हैं |

विटामिन ए की कमी से जुड़े कुछ प्रमुख सवाल और उनके जवाब

विटामिन ए की कमी से क्या दिक्कत होती है?

विटामिन ए की कमी से गंभीर स्वास्थ्य से जुडी समस्याएं हो सकती हैं। विटामिन ए की कमी बच्चों में अंधेपन, खसरा और दस्त जैसे संक्रमणों से मरने का जोखिम बढ़ जाता है। विटामिन ए की कमी से गर्भवती महिलाओं में एनीमिया और मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है और त्वचा की समस्याएं जैसे हाइपरकेराटोसिस और मुँहासे आदि हो सकती हैं।

विटामिन ए के लक्षण क्या है?

सूखी आंखें, कम रौशनी में न दिखाई देना, अधिक खुजली आना और त्वचा का सूखापन, बच्चो का शारीरिक विकास न होना, गले और छाती में बार बार होने वाला संक्रमण, घावों का जल्दी न भरना, गर्भवती महिलाओं में एनीमिया की समस्या होना |

Source:-

DMCA.com Protection Status