अर्जुन की छाल वजन कम करने की प्रभावशाली औषधि

अर्जुन की छाल वजन कम कैसे करें?

आयुर्वेदा में अर्जुन की छाल को औषधीय गुणों से भरपूर माना गया है और इसके बहुत से स्वास्थ्य लाभों के बारे में जानकारी दी गई है। बहुत सी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओ को दूर करने में अर्जुन की छाल एक प्रभावशाली औषधि सिद्ध हुई है। यहां तक की बहुत से डॉक्टर्स और हेल्थ एडवाइजर बहुत सी बिमारिओ को दूर करने के लिए अर्जुन की छाल, इसके चूर्ण, काढ़े, चाय या बाजार में मिलने वाले कैप्सूल्स के माध्यम से इसके सेवन की सलाह देते है।

अर्जुन की छाल क्या काम आती है?

अर्जुन की छाल वजन कम करने की प्रभावशाली औषधि
अर्जुन की छाल वजन कम

इसके सेवन से डायबिटीज़ कंट्रोल होती है, स्तन कैंसर की कोशिकाओं और गांठ को बढ़ने से रोकती है, त्वचा (Skin) के लिए भी है फायदेमंद और बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में भी बहुत फायदेमंद होती है । हालांकि, इसके कुछ नुकसान भी है इसलिए, सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर्स या हेल्थ एडवाइजर की सलाह अवश्य लें। आइए जानते हैं कि कैसे अर्जुन की छाल वजन कम करने में फायदेमंद साबित होती है और कैसे इसका सेवन करें ?

अर्जुन की छाल वजन कम करने में है फायदेमंद

विशेषज्ञों की मानें तो अर्जुन की छाल में हाइपोलिपिडेमिक पाया जाता है, जो कोलेस्ट्रॉल को कम अथवा नियंत्रित करता है, फैट बर्न करता है और हाइपरटेंशन को भी नियंत्रित करता है। ऐसे में शरीर में मौजूद एक्स्ट्रा फैट को पिघलाकर अर्जुन की छाल वजन कम करने में बहुत ही गुणकारी है। इसके लिए आप रोजाना सुबह और शाम अर्जुन की छाल की चाय या अर्जुन की छाल का काढ़ा जो भी आप पी सके वह आपको फायदा ही पहुचायेगा हैं।

जो लोग मोटापा घटाना चाहते हैं उनके लिए अर्जुन की छाल की चाय बहुत ही फायदेमंद है | अर्जुन की छाल की चाय का सबसे आसान तरीका बताते है। वैसे तो और भी तरीके है मगर यह तरीका सबसे आसान है | इसके लिए आपको चाहिए अर्जुन की छाल का पाउडर और चाय बनाने का समान।

अर्जुन की छाल की तासीर

बस आपको इतना करना है की अर्जुन की छाल लाकर पीस के सुबह-शाम जब भी चाय बनाई जाये चाहे वह बेड टी (Bed Tea) ही क्यों न हो, चाय बनाते समय उसमे बस एक चम्मच अर्जुन की छाल ka powder डाल दे और चाय वैसे ही बनाये जैसे बनाते है | इससे चाय का स्वाद भी खराब नहीं होता, टेस्ट आपको वही मिलेगा जो नार्मल चाय का होता है |

जो लोग अर्जुन की छाल की चाय का इस्तेमाल नहीं करना चाहते, वे इसके स्थान पर अर्जुन की छाल के काढ़े का सेवन भी कर सकते है। वजन कम करने के लिए अर्जुन की छाल का काढ़ा भी उतना ही फायदेमंद है जितना की इसकी चाय।

अर्जुन की छाल का काढ़ा बनाने के लिए :-

  1. अर्जुन के पेड़ की छाल को पीस के अच्छे से पाउडर बना लें |
  2. एक व्यक्ति के लिए काढ़ा तैयार करने के लिए एक कप पानी में एक चम्मच पाउडर डालकर उबालें |
  3. जब पानी उबल-2 कर आधा कप रह जाए और उसमें जरूरत अनुसार मीठा जो भी आपको पसंद है, वह मिलाये | वैसे बगैर मीठे के इसका सेवन किया जाये तो बेहतर है |

मोटापा से परेशान व्यक्ति के लिए अर्जुन छाल का काढ़ा या अर्जुन छाल की चाय का सुबह-शाम सेवन करना फायदेमंद है। सुबह शाम इसका सेवन करने से फैट सेल्स पिघलने लग जाते हैं | केवल महीने भर में इसका सेवन करने से असर दिखने लगता है।

बस आपको इतना ध्यान रखना है की इस औषधि का सेवन करने के दौरान मक्खन, मलाई और बाजार का तला, पैक्ड फ़ूड, जंक फ़ूड का सेवन न करे | आप देखना कैसे आपका वजन कम होता और फैट खत्म होता चला जाएगा, मोटापा पिघलता चला जाएगा, खासतौर पर पेट का चर्बी |

डायबिटीज़ को करती है नियंत्रित

मोटापा अपने आप में बहुत सी बिमारिओ की जड़ है और उन्ही में से सबसे खतरनाक बीमारी है शुगर यानि डायबिटीज । अर्जुन की छाल न सिर्फ वजन कम करने में सहायक होती है बल्कि यह डायबिटीज़ रोग को भी नियंत्रण में रखने में फायदेमंद है।

क्योंकि अर्जुन की छाल अग्नाशय (Pancrias) को ताकत देता है, जो इन्सुलिन को बनाने के लिए जिम्मेदार होता है | अर्जुन छाल का काढ़ा शुगर के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद औषधि है और यह शुगर को बहुत तेजी से कम कर सकती है | इसके सेवन के दौरान शुगर के रोगी अपनी शुगर पर पैनी नजर रखे, रूटीन चेकअप जरूर करवाते रहें क्योंकि यह बहुत तेजी से शुगर को डाउन कर सकता है।

अर्जुन की छाल :- शुगर और दिल की बीमारी के मरीजों के लिए वरदान

Disclaimer: इस लेख में दी गईं जानकारी और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

अर्जुन की छाल के फायदे और उसका सेवन करने के 4 तरीके || अर्जुन की छाल के नुकसान

अर्जुन छाल की चाय कैसे बनाये?

simple trika to yeh hai … बस आपको इतना करना है की अर्जुन का छाल लाकर पीस के सुबह-शाम जब भी चाय बनाई जाये चाहे वह बेड टी (Bed Tea) ही क्यों न हो, चाय बनाते समय उसमे बस एक चम्मच अर्जुन की छाल ka powder डाल दे और चाय वैसे ही बनाये जैसे बनाते है | इससे चाय का स्वाद भी खराब नहीं होता, टेस्ट आपको वही मिलेगा जो नार्मल चाय का होता है |

अर्जुन की छाल की चाय में मीठा डालें या नहीं?

ये इस बात पर निर्भर करता है की आप किस कारण से अर्जुन की छाल की चाय का सेवन कर रहे है। डायबिटीज दूर करने के लिए या अर्जुन की छाल वजन कम करने के लिए इसका सेवन कर रहे है तो मीठा न मिलाये और अगर आने वाली बिमारिओ से बचने के लिए इसका सेवन कर रहे है तो मीठा मिला सकते है।

अर्जुन की छाल का काढ़ा कैसे बनाएं?

अर्जुन के पेड़ की छाल को पीस के अच्छे से पाउडर बना लें |
एक व्यक्ति के लिए काढ़ा तैयार करने के लिए एक कप पानी में एक चम्मच पाउडर डालकर उबालें |
जब पानी उबल-2 कर आधा कप रह जाए और उसमें जरूरत अनुसार मीठा जो भी आपको पसंद है, वह मिलाये | वैसे बगैर मीठे के इसका सेवन किया जाये तो बेहतर है |

क्या सुबह अर्जुन छाल की चाय पी सकते हैं?

आप रोजाना सुबह और शाम अर्जुन की छाल की चाय या अर्जुन की छाल का काढ़ा जो भी आप पी सके वह आपको फायदा ही पहुचायेगा हैं।

अर्जुन की छाल की तासीर कैसी होती है?

अर्जुन की छाल की तासीर के बारे में अलग-२ जगह पर अलग-२ जानकारी दी गई है। कुछ जगह पर अर्जुन की छाल की तासीर को गर्म कहा गया है और कुछ जगह पर शीतल यानि ठंडी। बहुत से लोग अर्जुन की तासीर को गर्म मानते है और बहुत से ठंडी।
इस विषय पर एक पूरा लेख हमारी वेबसाइट पर है। आप इस लिंक पर क्लिक करके उसे Read कर सकते है
https://healthcareinhindi.com/arjun-ki-chaal-ki-tasir/

Leave a Comment