गला खराब होना के उपचार || खराब गला तो काम आएंगे ये 4 घरेलू उपाय

गला खराब होना एक आम समस्या है जिससे छोटे बच्चो से लेकर बड़ो तक सभी को अपनी छोटी मोटी असावधानी, मौसम में बदलाव आदि के चलते, इसका शिकार होना पड़ता है। अगर इसका समय पर उपचार ना किया जाये तो आपको खांसी, जुकाम और बुखार भी अपनी चपेट में ले लेगा। ऐसे में सबसे बेहतर यही है की आपको गला खराब होने के कारण, गला खराब होना के लक्षण का पता हो और गला खराब होना के उपचार, घरेलु उपचार की जानकारी हो तो आप समय रहते इस परेशानी को बढ़ने से रोक सकते है।

गला खराब होने पर आप तुरंत घर पर ही इसका उपचार कर सकते है। हल्दी, सैंधा नमक को पानी में मिलाकर उससे गरारे करना, लौंग का इस्तेमाल, मुलेठी का इस्तेमाल, मेथी के दानो का काढ़ा आदि गला खराब होना के उपचार, घरेलु उपचार है जो काफी फायदेमंद भी है।

गला खराब होना के उपचार

गला खराब होने पर आप तुरंत घर पर ही इसका उपचार कर सकते है। हल्दी, सैंधा नमक को पानी में मिलाकर उससे गरारे करना, मुलेठी का इस्तेमाल, मेथी के दानो का काढ़ा आदि गला खराब होना के उपचार, घरेलु उपचार है जो काफी फायदेमंद भी है।

जानिए गला खराब होना के लक्षण, गला खराब होना के उपचार, Gala Kharab ka Desi Ilaj in Hindi, गला खराब होने के कारण, Gala Kharab hone ke Karan गला खराब होने के कई कारण है |

गला खराब होने के कारण || Gala Kharab hone ke Karan

गला खराब होने के कई कारण ( Gala Kharab hone ke Karan ) होते है इनमे से 3 कारण जो आपके गले को बहुत जल्दी खराब कर देते है वे है :-

  1. गर्म के ऊपर ठंडा पीना या ठन्डे के ऊपर गर्म पीना |
  2. तली हुई चीजों को खाने के बाद पानी पीना |
  3. कसरत करने, दौड़ने, तेज चलने या किसी मेहनत वाला काम करने के एकदम बाद ठंडा पीना |
  4. मौसम में बदलाव।
  5. किसी चीज से एलेर्जी होना।
  6. आदत ना होने पर भी जोर-जोर से बहुत अधिक चीखना

बहुत से लोग चाहे उनकी इम्युनिटी कितनी ही स्ट्रांग क्यों न हो, वे पहले तीन कारण या इन तीन में से 1 भी काम कर ले तो उनका गला झट से खराब हो जाता है।

और इस तरह से गला खराब होने पर अगर इसका इलाज न किया जाये तो यह प्रॉब्लम और बढ़ती जाती है और फिर व्यक्ति को जुकाम , खांसी और बुखार तक हो सकता है।

गला खराब होना के उपचार, गला खराब होने के कारण, Gala Kharab ka Desi Ilaj in Hindi, Gala Kharab hone ke Karan

गला खराब होना के लक्षण

गला खराब होने पर हमारा शरीर कुछ लक्षण दिखता है। इन लक्षणों को समय पर पहचान कर, गले खराब का उपचार कर लेने से समस्या को और गंभीर होने से रोका जा सकता है। आइये जानते है गला खराब होना के लक्षण :-

  • गले में दर्द और खराश।
  • थूक निगलने में भी दर्द व कठिनाई होना।
  • टॉन्सिल में सूजन और दर्द होना ।
  • आवाज में बदलाव ।
  • समय पर इलाज ना करने पर बुखार और खाँसी भी हो सकते हैं।
  • समस्या के बढ़ने पर सर दर्द और बदन टूटना जैसे लक्षण भी दिख सकते है।

गला खराब होना के उपचार || Gala Kharab ka Desi Ilaj in Hindi

अगर किसी भी कारण से आपका गला खराब होता है तो आप इन घरेलू उपायों ( gala kharab ka desi ilaj in hindi ) को भी अपनाकर एक बार जरूर देखें। यह चारो घरेलु उपाय आपको नुकसान पहुंचाए बिना आपके गला खराब की समस्या को दूर करने में आपकी मदद करेंगे।

लौंग चूसना

लौंग में आपके मुंह और गले की सूजन से लड़ने की क्षमता होती है। गले में खराश, खांसी, जुकाम और साइनसाइटिस की प्रॉब्लम में लौंग काफी फायदेमंद होता है।

खराब गले से राहत पाने के लिए आपको बस इतना करना है की 1 लौंग ले कर उसे मुँह में रख ले और उसे हलके-२ चूसते रहे और फिर देखिये आपका खराब गला कैसे ठीक हो जाता है।

लौंग खाने से क्या फायदा होता है? || लौंग खाने के 9 फायदे

हल्दी, सैंधा नमक को पानी में मिलाकर उससे गरारे करे

खराब गले से राहत पाने के लिए अगर आप सिर्फ नमक के पानी के गरारे करते है तो उसमे सैंधा नमक के साथ थोड़ी सी हल्दी भी मिला ले | हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेंटरी गुण होते है जो गले की सूजन से आराम दिलाने में काफी फायदेमंद होती है |

इसके लिए एक छोटा चम्मच हल्दी,1/2 चम्मच सैंधा नमक को 200-300 मिली पानी में मिलाकर उबाल ले | उसके गुनगुना होने पर, इस पानी से गरारे करने से लाभ मिलता है। दिन में 3-4 बार ऐसा करे। इससे गले के इन्फेक्शन को कम करने में मदद मिलती है।

बस एक बात का ध्यान रखे की गरारे करने से गले की सिकाई होती है और सिकाई की हुई जगह पर, सिकाई करने के कुछ देर तक हवा नहीं लगनी चाहिए।

Turmeric || 19 रोगो में हल्दी का उपयोग कैसे करे ?|| Haldi ke Fayde || Haldi ke Labh

मुलेठी

गले की बहुत सी समस्याओं को ठीक करने के लिए मुलेठी को सबसे कारगर औषधि ( gala kharab ka desi ilaj in hindi ) माना जाता है। गले की प्रॉब्लम को ठीक करने के लिए 1 चम्मच मुलेठी पाउडर में शहद मिलाकर रोजाना ले | इसके थोड़ी देर बाद गुनगुने पानी से गरारे करें।

मेथी के दानो का काढ़ा 

अपने गुणों के कारण मेथी सेहत के लिए वरदान मानी जाती है | यह गले के लिए भी बेहद गुणकारी होती है। खराब गले से राहत पाने के लिए मेथी के दानों का काढ़ा बनाकर पीना फायदेमंद होता है ( gala kharab ka desi ilaj in hindi ) |

काढ़ा बनाने के लिए 1 चम्मच मेथी दानों को 1 कप पानी में तब तक उबाले जब तक पानी उबाल-२ कर आधा न रह जाये | आधा रह जाने पर यह काढ़ा तैयार है इसे छान लें। मेथी दाने वाले इस गुनगुने काढ़े को पीने से गले की समस्या और दर्द में राहत मिलती है।

गले में अंदरुनी दर्द होने पर मेथी दानो के चूर्ण का इस्तेमाल करना भी फायदेमंद होता है | मेथी के दानों को पीसकर, कूटकर उसका चूर्ण बना लें | इस चूर्ण में काला नमक मिलाकर, हल्क़े गर्म पानी के साथ दिन में दो बार लेने से गले दर्द में राहत मिलती है |

Articles You May Like To Read:-

#HaldiMilk || हल्दी वाला दूध बनाने का सही तरीका और उसके सही होने के कारण

क्या आप जानते है हल्दी वाला दूध पीने के यह 9 फायदे?

सर्दी-खांसी और जुकाम से हैं परेशान, अपनाएं ये 11 घरेलू नुस्ख

जरूर जानिए सोंठ खाने के फायदे और नुकसान || सोंठ के हैरान कर देने वाले 15 फायदे || सोंठ की तासीर

Leave a Comment

Ayurveda And Natural Health Tips