वीगन डाइट क्या है

आजकल वीगन डाइट की चर्चा जोरो पर है बहुत से सेलिब्रिटीज स्वस्थ और फिट रहने के लिए वीगन डाइट को फॉलो कर रहे है। इस लेख में हम आपके लिए वीगन डाइट क्या है और वीगन डाइट के फायदे क्या होते है की जानकारी ले कर आये है।

वीगन (Vegan) डाइट एक ऐसी डाइट है जिसमें किसी भी पशु या उनके ज़रिये तैयार किये गए किसी उत्पाद जैसे शहद, दूध या उससे बने उत्पाद आदि का सेवन नहीं किया जाता।

‘वीगन’ शब्द का क्या अर्थ है ?

वीगन का मतलब शुद्ध शाकाहारी। वीगन यानि शुद्ध शाकाहारी वह व्यक्ति होता है जो अपने आहार में सिर्फ फल व सब्जियों को ही शामिल करता है। वीगन व्यक्ति अपने भोजन, स्वाद या स्वार्थ के लिए किसी भी जानवर को मारना या उनके बच्चो का दूध उनसे छीनकर या चुराकर उपयोग में लाना पसंद नहीं करते । वे अपने आहार में सिर्फ जमीन से उगने वाले खाद्य पदार्थो जैसे साग, सब्जी, फल, अनाज, फलिया आदि का उपयोग ही करते है।

वीगन डाइट क्या है (What Is The Vegan Diet)

वीगन व्यक्ति किसी भी जानवर के सिर्फ मांस को ही नहीं बल्कि जानवरो से प्राप्त होने वाले किसी भी उत्पाद का सेवन नहीं करते जैसे दूध और दूध से बनी चीजे जैसे दही, पनीर आदि और शहद, अंडे या ऐसी कोई भी वस्तु जो किसी भी तरह से जानवरो से प्राप्त की गई हो।

वीगन डाइट क्या है

वीगन डाइट के प्रकार (Types Of Vegan Diet)

होल फूड वीगन डाइट (Whole Food Vegan Diet)

इस डाइट का पालन करने वाले वीगन व्यक्ति अपने आहार में सिर्फ साबुत अनाज (Whole Grains), फलियां (Legumes), फल (Fruits), सब्जियां (Vegetables), नट्स और बीज (Nuts And Seed) जैसे संपूर्ण खाद्य पदार्थों से भरपूर आहार का ही सेवन करते हैं।(1)

रॉ फूड वीगन डाइट (Raw Food Vegan Diet)

इस डाइट का पालन करने वाले वीगन व्यक्ति अपने आहार में कच्चे फल (Raw Fruits), कच्ची सब्जियां (Raw Vegetables), नट्स (Nuts) , बीज (Seed) आदि को ही शामिल करते है। वे अपने आहार को 118 ° F (48 ° C) तापमान तैयार कर सकते हैं।

80/10/10 वीगन डाइट (80/10/10 Vegan Diet)। कम वसा वाले, कच्चे-खाद्य शाकाहारी आहार

इस डाइट का पालन करने वाले वीगन व्यक्ति को फ्रूटेरियन के रूप में भी जाना जाता है। इस डाइट में कच्चे खाद्य पदार्थो के सेवन पर अधिक ध्यान दिया जाता है जिनमें फैट की मात्रा काफी कम होती है जैसे नारियल, अवोकाडो और नट्स आदि।

स्टार्च सोल्यूशन वीगन डाइट (Starch Solution Vegan Diet)

इस डाइट का पालन करने वाले वीगन व्यक्ति अपने भोजन में कम फैट और हाई कार्ब वाले वेजिटेरियन फूड का सेवन करते हैं। लेकिन इसमें फल की जगह आलू, अनाज, चावल, फलियां और मक्का का सेवन किया जाता है जिनमे स्टार्च और फाइबर भरपूर मात्रा में होता है।

वैसे तो वीगन डाइट के और भी कई प्रकार हैं लेकिन कई साइंटिफिक रिसर्च इस बात की पुष्टि नहीं करती।

वीगन डाइट कैसे शुरू करे? (How To Do Vegan Diet)

वीगन डाइट शुरू करने के लिए आपको सबसे पहले अपने आहर में से ऐसी वस्तुओ को बाहर करना होगा जो किसी भी जानवर से प्राप्त की जाती है जैसे मॉस, मछली, अंडे और यह तक की दूध और दूध से बने पदार्थ भी जैसे दूध, दही, मक्खन, पनीर, देसी घी आदि। इनके स्थान पर अपने आहार में साग, सब्जी, साबुत अनाज, सेम, फलियां, टोफू, नट और बीज आदि जमीन से पैदा होने वाली वस्तुओ को शामिल करे। एक वीगन डाइट में केवल पौधे (जैसे सब्जियां, अनाज, नट और फल) और पौधों से बने खाद्य पदार्थ ही शामिल होते हैं।

वीगन डाइट के फायदे (Benefits Of Vegan Diet)

वजन कम करने में सहायक

वजन कम करने की उम्मीद में अनेको लोग वीगन डाइट की ओर रुख कर रहे है। कई अध्ययनों से पता चलता है कि शाकाहारी लोग पतले होते हैं और मांसाहारी लोगो की तुलना में उनका बॉडी मास इंडेक्स (BMI) कम होता है।

वजन कम करने के लिए कम कैलोरी वाला आहार खाने की सलाह दी जाती है और जानवरो से प्राप्त खाद्य पदार्थों की तुलना में शाकाहारी खाद्य पदार्थ कैलोरी में कम होते हैं (1)। इसलिए शाकाहारी भोजन स्वाभाविक रूप से आपके कैलोरी सेवन को कम करता है। वीगन डाइट में कैलोरी काफी कम मात्रा में होती है इसलिए अपनी कैलोरी पर ध्यान दिए बिना वजन घटाने का प्रभावी तरीका है वीगन डाइट।

टाइप 2 मधुमेह को रोकने में सहायक

शोध से पता चला है कि जो लोग शाकाहारी आहार खाते हैं उनका ब्लड शुगर का स्तर, मांसाहारी आहार खाने वालो की तुलना में कम होता है और उनमे टाइप 2 मधुमेह होने की सम्भावना माँसाहारिओ की तुलना में 78% तक कम होता है।

वास्तव में, शाकाहारी लोगों में ब्लड शुगर का स्तर कम और इंसुलिन संवेदनशीलता अधिक होती है और उन्हें टाइप 2 मधुमेह (2,3, 4) विकसित होने का कम जोखिम हो सकता है।

शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर वीगन डाइट

फलों, सब्जियों, दालों, अनाज, नट्स और बीजों सहित संपूर्ण खाद्य पदार्थों से भरपूर एक स्वस्थ, संतुलित वीगन डाइट से आपके शरीर के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व प्राप्त हो सकती है। कई अध्ययनों से पता चला है कि जो लोग शाकाहारी भोजन करते हैं उन्हें अधिक मात्रा में फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट, पोटेशियम, मैग्नीशियम, फोलेट और विटामिन ए, सी और ई जैसे पोषक तत्व प्राप्त होते है।

हृदय के लिए फायदेमंद वीगन डाइट

ताजे फल, सब्जियां, फलियां और नट्स में मौजूद आहार फाइबर खाने से हृदय रोग का खतरा कम होता है (6, 7, 8)। सुनियोजित वीगन डाइट में आमतौर पर वे सभी खाद्य पदार्थ बड़ी मात्रा में शामिल होते हैं जो हमारे स्वस्थ ह्रदय के लिए आवश्यक है।

इतना ही नहीं वीगन डाइट का सेवन करने वालो में हाई ब्लड प्रेशर होने की संभावना अन्य लोगो के मुकाबले 75% तक कम होती है और शाकाहारी लोगों में हृदय रोग से मरने का जोखिम 42% तक कम हो सकता है

शाकाहारियों के साथ शाकाहारी की तुलना करने वाले अवलोकन अध्ययन और सामान्य आबादी की रिपोर्ट है कि शाकाहारी लोगों को उच्च रक्तचाप (9) के विकास के 75% कम जोखिम से लाभ हो सकता है। (9, 10)।

गठिया के दर्द को कम करने में फायदेमंद

कई अन्य अध्ययनों से पता चलता है कि एक शाकाहारी आहार गठिया के दर्द, जोड़ों की सूजन और सुबह की जकड़न (11) सहित संधिशोथ के लक्षणों को सुधारने में मदद कर सकता है।

वीगन डाइट में अच्छी मात्रा में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट, प्रोबायोटिक, और फाइबर और साथ ही गठिया के दर्द को पैदा करने वाले तत्वों की कमी, गठिया में वीगन डाइट से मिलने वाले इन लाभों के लिए जिम्मेदार हो सकती है (12)।

प्रोबायोटिक युक्त संपूर्ण खाद्य पदार्थों पर आधारित वीगन डाइट पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और रुमेटीइड गठिया के लक्षणों को काफी कम कर सकते हैं।

सही वीगन डाइट क्यों है जरुरी ?

अच्छी योजना और एक स्वस्थ, संतुलित वीगन डाइट बनाने की समझ के साथ, आप अपने शरीर के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व प्राप्त कर सकते हैं।

लेकिन यदि आप अपने आहार की सही योजना नहीं बनाते हैं या उसमे सही सही खाद्य पदार्थो को शामिल नहीं करते, तो आप कैल्शियम, आयरन और विटामिन बी 12 जैसे आवश्यक पोषक तत्वों को अपने आहार में से खो देंगे। इसलिए हमेशा सोच समझ कर ही सही वीगन डाइट को चुने।

इन बातों का भी रखें ख्याल

अगर आप वीगन डाइट को शुरू करने की सोच रहे है तो यह भी जान ले की –

  • वीगन डाइट से आपके मुंह का स्वाद बिगड़ सकता है।
  • वीगन डाइट को फॉलो करने वाले लोगो में ब्लड लेवल, विटामिन बी12 और विटामिन D की कमी हो सकती है इसलिए अपनी वीगन डाइट में ऐसे खाद्य पदार्थो को जरूर शामिल करे जिनमे ये पोषक तत्वों अच्छी माता में पाए जाते हो।
  • अधिक समय तक वीगन डाइट को फॉलो करने से पहले किसी एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें ताकि सेहत बनाने के चक्केर में आप सेहत को बिगाड़ न बैठे।
Disclaimer

Specially For You :-

ज्यादा मीठा खाने के नुकसान
ज्यादा मीठा खाने के नुकसान
ज्यादा मीठा खाने के नुकसान (Jyada Mitha Khane Ke Nuksan) - मीठा सभी को पसंद होता है लेकिन अधिक मात्रा ...
Read More
खीरे का जूस के फायदे
खीरे का जूस के फायदे
खीरे का जूस के फायदे (Kheere ka Juice) - क्या आप जानते है की खीरे का रस का सेवन करने ...
Read More
सुबह खाली पेट दही खाने के फायदे
सुबह खाली पेट दही खाने के फायदे
सुबह खाली पेट दही खाने के फायदे (Khali Pet Dahi Khane Ke Fayde) - कुछ लोग आपको यह सलाह देते ...
Read More
शुगर में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए
शुगर में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए
डायबिटीज यानि शुगर में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए (Sugar me kon sa fal nahi khana chahiye)- एक गलत ...
Read More
शुगर में मटन खाना चाहिए या नहीं
डायबिटीज यानि शुगर में मटन खाना चाहिए या नहीं
शुगर में मटन खाना चाहिए या नहीं (Sugar Patients Can Eat Mutton in Hindi) - अगर आप मीट खाने के ...
Read More
प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं
जानिए प्रेग्नेंसी में क्या खाएं और क्या नहीं
प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं (Pregnancy me kya khana chahiye or kya nahi) - एक गर्भवती स्त्री ...
Read More

पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय

कमर दर्द का इलाज

आम || Aam ke fayde || Uses and Benefits of Mango in Hindi

लहसुन के फायदे, विभिन्न रोगों में उपयोग की विधि | Uses and Health Benefits of Garlic in Hindi

अनार के फायदे और विभिन्न रोगो में प्रयोग की विधि की जानकारी

DMCA.com Protection Status