7 दिनों तक खाली पेट शहद और लहसुन के फायदे और नुकसान

आजकल लोग अपने स्वास्थ्य को ले कर बहुत ही जागरूक हो गए है। वे स्वस्थ रहने के लिए आयुर्वेदा के नए-पुराने नुस्खों को अपना रहे है। लहसुन और शहद दुनिया भर में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किये जाते हैं। लहसुन और शहद दोनों में ढेर सारे एंटीबायोटिक गुण होते हैं, जो आपके इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में मदद करते हैं।

इन दोनों के अलग-अलग स्वास्थ्य लाभ हैं और लहसुन और शहद दोनों को मिलाकर आप और भी अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं। 7 दिनों तक खाली पेट शहद के साथ लहसुन का सेवन करने से आपके स्वास्थ्य में भारी सुधार दिखाई देगा। खाली पेट शहद और लहसुन के फायदे बहुत है और इनके सेवन से रक्तचाप ( Blood Pressure ) का स्तर कम होता है, हृदय की समस्याओं को रोका जा सकता है और आपके इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में मदद होती है।

7 दिनों तक खाली पेट शहद और लहसुन के फायदे और नुकसान

Table of Contents

लहसुन को प्राचीन काल से ही औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता रहा है। शहद एक योगवाही है यानि इसका सेवन जिस भी चीज के साथ मिलाकर किया जाता है, ये उसके गुणों को बढ़ा देता है। आगे बढ़ने से पहले आइये जानते है शहद और लहसुन के गुणों के बारे में :-

शहद और लहसुन के फायदे

लहसुन और शहद के गुण

  • लहसुन और शहद का उपयोग प्राचीन काल से पारंपरिक औषधि के रूप में किया जाता रहा है। लहसुन में एलिसिन मुख्य स्वास्थ्य यौगिक है।
  • इसके अलावा, इसमें सल्फर, ऑक्सीजन और अन्य रासायनिक यौगिक होते हैं जो लहसुन को एंटीवायरल और जीवाणुरोधी गुण देते हैं।
  • कई शोध यह साबित करते हैं कि कुचल या कटा हुआ ताजा लहसुन जल्दी से अधिक एलिसिन छोड़ सकता है, इसलिए अपने भोजन में ताजा लहसुन का उपयोग करना अधिक फायदेमंद होता है।
  • शहद पॉलीफेनोल्स और फ्लेवोनोइड्स का एक प्राकृतिक स्रोत है जो उच्च एंटीऑक्सीडेंट गुण देता है। इस गुण के कारण शहद शरीर में सूजन से लड़ सकता है।
  • इसमें एंटीवायरल, एंटीबैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुणों की भी अच्छी मात्रा होती है।
  • शहद के रासायनिक यौगिक और गुण प्रतिरक्षा प्रणाली को संतुलित करने और किसी भी बीमारी को रोकने में मदद करते हैं।

खाली पेट लहसुन और शहद खाने के फायदे

चिकित्सा शोध यह साबित करते हैं कि अकेले शहद और लहसुन खाने या दोनों को मिलाकर खाने से शरीर को बहुत से फायदे मिलते हैं। यह सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है जिसका उपयोग सौ से अधिक वर्षों से किया जा रहा है।

लेकिन ज्यादातर लोगों के मन में यह सवाल होता है कि क्या खाली पेट लहसुन खाना सही है ?

जी हां, खाली पेट लहसुन खाना पूरी तरह से सुरक्षित है। कच्चे लहसुन को शहद के साथ खाने से कई स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होते हैं। पारंपरिक इथियोपियाई चिकित्सा में, स्थानीय शहद का उपयोग त्वचा के संक्रमण, सांस लेने में तकलीफ और दस्त के इलाज के लिए भी किया जाता है।

परंपरागत रूप से, लहसुन का उपयोग खांसी और सर्दी के इलाज के लिए किया जाता है। इसका उपयोग प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार और अस्थमा के लक्षणों को कम करने के लिए भी किया जाता है। पारंपरिक अरब चिकित्सा में, लोग लहसुन का उपयोग उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, दांत दर्द, गठिया, संक्रमण और कब्ज के इलाज के लिए करते थे।

7 दिनों तक खाली पेट शहद और लहसुन के फायदे और नुकसान

1. वजन घटाने में मदद करता है Helps in Weight Loss

लहसुन और शहद अद्भुत रक्त शोधक हैं, जो हमारे शरीर को प्राकृतिक रूप से डिटॉक्सीफाई करने में मदद करते हैं। रोजाना खाली पेट शहद में डूबी लहसुन की दो कली का सेवन करने से वजन कम करने में काफी फायदा मिलता है। लहसुन में मौजूद यौगिक शरीर में मौजूद खराब कोलेस्ट्रॉल (LDL) को कम करने में मदद करते है। इसके अलावा, लहसुन शरीर में चयापचय को बढ़ाता है जो वजन घटाने में मदद करता है।

2. मस्तिष्क स्वास्थ्य और याददाश्त में सुधार – Brain Health And Memory

शहद और लहसुन दोनों में अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। लहसुन और शहद दोनों में रासायनिक यौगिक प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और आपको बीमारी से बचाने में मदद करते हैं। यह अल्जाइमर और डिमेंशिया जैसी कुछ दिमागी बीमारियों से भी लड़ता है।

कुछ शोधों ने साबित किया है कि लहसुन के अर्क में उच्च मात्रा में कायोलिक एसिड होता है, जो एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए अधिक जिम्मेदार होता है। शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट गुण आपके मस्तिष्क को उम्र बढ़ने या अन्य बीमारियों से होने वाले नुकसान से बचाते हैं। रोजाना खाली पेट लहसुन और शहद का सेवन करने से कुछ लोगों में एकाग्रता, फोकस और याददाश्त में सुधार होता है।

3. हृदय स्वास्थ्य में सुधार करता है – Improves Heart Health

अधिकांश अध्ययनों और शोधों ने यह साबित कर दिया है कि लहसुन दिल की सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद होता है। शहद में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण हृदय की समस्याओं से लड़ने में मदद करते हैं।

लहसुन उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर, उच्च रक्तचाप के स्तर को कम करके, रक्त के थक्के को रोकने और रक्त वाहिकाओं को नर्म करके हृदय की समस्याओं और स्ट्रोक के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि लहसुन में मौजूद सल्फर रक्त वाहिकाओं को कठोर होने और हृदय की मांसपेशियों को क्षतिग्रस्त होने से बचाता है। इस प्रकार, लहसुन और शहद हृदय के स्वास्थ्य में सुधार करता है और रक्त के थक्कों, हृदय रोग और स्ट्रोक को रोकता है।

4. कोलेस्ट्रॉल कम करता है – Reduces Cholesterol

उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर के लिए लहसुन एक उत्कृष्ट उपाय है। रोजाना खाली पेट शहद के साथ लहसुन का सेवन करने से उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर काफी कम हो जाता है। एलडीएल एक प्रकार का खराब कोलेस्ट्रॉल है जो स्ट्रोक और दिल की अन्य समस्याओ का मुख्य कारण है। कुछ शोध यह साबित करते हैं कि लहसुन का सेवन एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है।

5. उच्च रक्तचाप को कम करता है – Reduces Hypertension

खाली पेट शहद में डूबे कच्चे लहसुन का सेवन करने से उच्च रक्तचाप में फायदा मिलता है। जिन लोगों को हाइपरटेंशन का खतरा होता है उन्हें डॉक्टर खाली पेट लहसुन और शहद खाने की सलाह देते हैं। यह उन्हें उच्च रक्तचाप के जोखिम से बचाता है।

6. कैंसर को रोकता है – Prevents Cancer

लहसुन एंटीबायोटिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-कार्सिनोजेनिक गुणों से भरपूर होता है। खाली पेट लहसुन और शहद का सेवन करने से शरीर में कैंसर सेल्स को बनने से रोकने में मदद मिलती है। लहसुन का भरपूर एंटीऑक्सीडेंट और डिटॉक्सिफिकेशन भी इसका एक कारण है।

7. रक्त शोधक के रूप में कार्य करें – Act as a Blood Purifier

खाली पेट शहद और लहसुन का सेवन एक बेहतरीन प्यूरीफायर का काम करता है। लहसुन का Detox गुण रक्त में मौजूद अशुद्धियों को दूर करने में मदद करता है और रक्त वाहिकाओं के स्वास्थ्य में सुधार करता है। लहसुन और शहद के एंटीबायोटिक, सूजन-रोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण रक्त शोधन (Blood Purifier ) प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

8. संक्रमण से लड़ता है – Fights Infection

लहसुन में प्राकृतिक जीवाणुरोधी, एंटिफंगल और एंटीवायरल गुण होते हैं। हालांकि, खाली पेट लहसुन और शहद का सेवन करने से संक्रमण दूर करने में सहायता मिलती है और लंबे समय तक सेवन करने से संक्रमण को रोकने में मदद मिलती है।

9. फेफड़ों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है – Promotes Lung Health

शहद और लहसुन में मौजूद रासायनिक यौगिक श्वसन पथ को साफ करने में मदद करता है। लहसुन का नियमित सेवन कुछ फुफ्फुसीय रोगों, जैसे ब्रोंकाइटिस, अस्थमा, तपेदिक और काली खांसी से लड़ने में मदद करेगा। लहसुन फेफड़ों में रुकावट को कम करने और शरीर में ऑक्सीजन के स्तर में सुधार करने में भी मदद करता है। लहसुन के एंटी-इंफ्लामेन्ट्री और जीवाणुरोधी गुणों के कारण, यह सामान्य सर्दी में प्रयोग में लाये जाने वाला बढ़िया भोजन और दवा है।

10. पाचन को बढ़ावा देता है – Promotes Digestion

शहद और लहसुन पाचन क्रिया को मजबूत बनाने में सहायक होते है। लहसुन में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबायोटिक गुण होते हैं, जो आंत के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। लहसुन में मौजूद विटामिन और खनिज भी मूत्राशय, यकृत और गुर्दे के स्वास्थ्य में सुधार करने में प्रमुख भूमिका निभाते हैं।

11. नियंत्रित रक्त चाप – Regulates Blood Pressure

खाली पेट शहद और लहसुन का सेवन रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में फायदेमंद होता है क्योंकि, लहसुन में मौजूद यौगिक प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करते हैं और रक्त को शुद्ध करते हैं। लहसुन में में मौजूद पोषक तत्व शरीर में कोलेस्ट्रॉल के अवशोषण में भी मदद करते हैं और रक्तचाप के स्तर को बनाए रखते हैं।

12. खांसी, जुकाम और गले में खराश का इलाज – Treats Cough, Cold, and Sore Throat

कच्चे लहसुन और शहद में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं। लहसुन के नियमित सेवन से फ्लू और आम सर्दी से बचाव में मदद मिलेगी। यह अस्थमा की भी अच्छी दवा है।

लहसुन और शहद खाने का तरीका | लहसुन और शहद कैसे खाएं ?

शहद और लहसुन, दोनों से मिलने वाले स्वास्थ्य लाभों का पूरा फायदा उठाने के लिए आपको लहसुन और शहद का मिश्रण तैयार करना पड़ेगा।

इसके लिए प्रतिदिन सुबह 2-3 बड़ी लहसुन की ताजी कली को हल्‍का सा दबा कर, कूट ले। फिर उसमें शुद्ध कच्‍ची शहद मिलाकर थोड़ी देर के लिए छोड़ दे। कुछ देर के अंदर लहसुन में पूरा शहद समा जायगा । तब तक आप अपने नित्यकर्म निपटा ले। फिर इसे सुबह-2 खाली पेट 7 दिनों तक प्रतिदिन खाइये और इसके फायदों का लाभ उठाइये।

लहसुन और शहद के नुकसान

वजन घटाने के लिए लहसुन और शहद का सेवन सबसे बढ़िया उपाय है, लेकिन इसके सेवन से कुछ लोगो में रिएक्शन हो सकता है। लहसुन और शहद का सेवन करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

शहद

  • शहद के नियमित सेवन से मधुमेह के रोगियों का ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाएगा। इसलिए, आपको अपने आहार में शहद को शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।
  • शहद अन्य दवाओं के साथ परस्पर क्रिया नहीं करेगा, लेकिन यह कुछ लोगों के लिए एलर्जी का कारण बन सकता है। जिन लोगों को मधुमक्खी पराग से एलर्जी है, उन्हें इसे खाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।
  • शहद के सेवन से कुछ लोगो में खांसी, घरघराहट, चक्कर आना, गले या चेहरे में सूजन, उल्टी, मतली, बेहोशी, कमजोरी, त्वचा में जलन, पसीना और अनियमित दिल की धड़कन जैसी समस्याएं पैदा हो सकती है।

लहसुन

  • लहसुन से कुछ लोगों को एलर्जी हो सकती है।
  • लहसुन या लहसुन की खुराक का अधिक मात्रा में सेवन करने से रक्त का गाढ़ापन कम हो सकता है और रक्तस्राव का खतरा बढ़ सकता है। इस कारण से, लहसुन रक्त को पतला करने वाली कुछ नकारात्मक बातचीत का कारण बनता है।
Disclaimer

निष्कर्ष

लहसुन और शहद का उपयोग पारंपरिक चिकित्सा में लंबे समय से किया जाता है और यह बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ देता है। हाल के चिकित्सा शोधों ने यह भी साबित किया है कि लहसुन और शहद को मिलाकर बनने वाले मिश्रण में कई स्वास्थ्यवर्धक गुण मौजूद होते हैं। लेकिन तभी जब यह सिमित मात्रा में खाया जाये। अधिक मात्रा में लहसुन और शहद का सेवन नुकसान पंहुचा सकता है।

वैसे भी, लहसुन और शहद के औषधीय गुण और उनमे पाए जाने वाले पोषक तत्व शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होते है इसलिए आप खाली पेट शहद और लहसुन के सेवन कर सकते हैं। लेकिन अच्छा यही रहेगा की आप लहसुन और शहद का सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

क्या खाली पेट लहसुन खाना सही है ?

जी हां, खाली पेट लहसुन खाना पूरी तरह से सुरक्षित है। कच्चे लहसुन को शहद के साथ खाने से कई स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होते हैं। पारंपरिक इथियोपियाई चिकित्सा में, स्थानीय शहद का उपयोग त्वचा के संक्रमण, सांस लेने में तकलीफ और दस्त के इलाज के लिए भी किया जाता है।

लहसुन और शहद का उपयोग कैसे करें?

इसके लिए प्रतिदिन सुबह 2-3 बड़ी लहसुन की ताजी कली को हल्‍का सा दबा कर, कूट ले। फिर उसमें शुद्ध कच्‍ची शहद मिलाकर थोड़ी देर के लिए छोड़ दे। कुछ देर के अंदर लहसुन में पूरा शहद समा जायगा । तब तक आप अपने नित्यकर्म निपटा ले। फिर इसे सुबह-2 खाली पेट 7 दिनों तक प्रतिदिन खाइये और इसके फायदों का लाभ उठाइये।

लहसुन और शहद कितने दिन तक खाना चाहिए?

खाली पेट 7 दिनों तक प्रतिदिन खाइये और इसके फायदों का लाभ उठाइये।

आम || Aam ke fayde || Uses and Benefits of Mango in Hindi

लहसुन के फायदे, विभिन्न रोगों में उपयोग की विधि | Uses and Health Benefits of Garlic in Hindi

अनार के फायदे और विभिन्न रोगो में प्रयोग की विधि की जानकारी

अर्जुन की छाल क्या काम आती है ? | अर्जुन की छाल का उपयोग कैसे करना चाहिए ?

Ayurveda And Natural Health Tips