शहद जहर कैसे बनता है

शहद का सेवन हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है लेकिन गलत तरीके से और गलत चीजों के साथ खाया गया शहद जहर भी बन सकता है।

अगर आप भी शहद का सेवन करते है तो आपके लिए भी यह जानना आवश्यक है की शहद जहर कैसे बनता है ?, शहद की तासीर कैसी होती है, शहद का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए की यह जहर की तरह नुकसानदायक न हो , बल्कि अमृत के समान फायदेमंद हो।

शहद

आयुर्वेद में शहद को अमृत के समान माना जाता है और इसका इस्तेमाल बहुत सी औषधियों को बनाने के लिए भी किया जाता है। इतना ही नहीं शहद एक योगवाही है यानि की इसे जिस भी चीज के साथ मिलाकर सेवन किया जाता है, ये उस चीज के गुणों को बहुत बढ़ा देता है।

शहद में एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी सेप्टिक, एंटी वायरल और एंटी फंगल गुण भी मौजूद होते है। साथ ही शहद जिस भी चीज के साथ मिलाकर खाया जाता है, यह अपना गुण वैसा ही बना लेता है और उस गुण को बढ़ा भी देता है।

शहद में क्या पाया जाता है ? | शहद के पौष्टिक तत्व

शहद में मौजूद पोषक तत्वों की जानकारी से आप भी यह समझ जायँगे की शहद में क्या पाया जाता है और यह कितना फायदेमंद होता है।

शहद में आयरन, मैगनीशियम, कैल्शियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम, सोडियम जैसे नुट्रिएंट्स, खनिज और विटामिन ए, बी, सी जैसे विटामिन्स और एंटी ऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं। 100 ग्राम शहद में इनकी मात्रा की जानकारी आगे दी गई है।

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
पानी17.1 ग्राम
कैलोरी304 kcal
प्रोटीन0.3 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट82.4 ग्राम
फाइबर0.2 ग्राम
शुगर82.12 ग्राम
कैल्शियम6 मिलीग्राम
आयरन0.42 मिलीग्राम
मैग्नीशियम2 मिलीग्राम
फास्फोरस4 मिलीग्राम
पोटैशियम52 मिलीग्राम
सोडियम4 मिलीग्राम
जिंक0.22 मिलीग्राम
मैंगनीज0.08 मिलीग्राम
कॉपर0.036 मिलीग्राम
सेलेनियम0.8 माइक्रोग्राम
विटामिन सी0.5 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.038 मिलीग्राम
नियासिन0.121 मिलीग्राम
फोलेट2 माइक्रोग्राम
कोलीन2.2 मिलीग्राम

बाजार में आप आसानी से पतंजलि शहद का रेट जानकर उसे खरीद सकते है।

शहद की तासीर कैसी होती है ? | शहद गर्म है या ठंडा

शहद को आयुर्वेद में अमृत के समान माना जाता है और देश विदेश में इसे भरपूर इस्तेमाल किया जाता है लेकिन फिर भी बहुत से लोग यह नहीं जानते की शहद गर्म है या ठंडा, शहद की तासीर कैसी होती है ? आइये जानते है इस सवाल का जवाब।

आयुर्वेदा के अनुसार शहद की तासीर गर्म होती है इसलिए जहां तक हो सके, इसे गर्म चीजों के साथ मिलाकर नहीं खाना चाहिए। इसका कारण ऊपर बताया जा चुका है फिर भी याद दिला दे की शहद एक योगवाही है यानि की शहद जिस भी चीज के साथ मिलता है उसके गुणों को बढ़ा देता है।

हां, अगर आप किसी रोग को दूर करने के लिए किसी औषधि का निर्माण कर रहे है तो आप शहद का उपयोग उस औषधि के निर्माण के लिए बताई गई मात्रा के हिसाब से कर सकते है। फिर चाहे वह गर्म तासीर वाली वस्तु के साथ मिलाना पड़े या ठंडी तासीर वाली वस्तु के साथ जैसे लहसुन और शहद। लहसुन भी गर्म तासीर वाला होता है और शहद भी गर्म तासीर वाला, लेकिन इन दोनों को सही मात्रा में मिलाकर , सही समय पर, सही मात्रा में सेवन करने से शरीर को बहुत से फायदे मिलते है।

शहद जहर कैसे बनता है ?

शहद जहर कैसे बनता है

अगर आप शहद का रोजाना सही ढंग से सेवन करे तो ये स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होगा किन्तु अगर शहद का विरुद्ध आहार के साथ सेवन किया जाये या शहद का गलत तरीके से सेवन किया जाये तो शहद रूपी अमृत जहर में बदल जाता है और फायदा पहुंचाने के बजाए शरीर को नुकसान पहुंचाता है। आइये जानते है कि शहद का सेवन कैसे नहीं करना चाहिए और शहद जहर कैसे बनता है ?

साथ ही आगे दी गई जानकारी से आपको यह भी पता चल जायगा की शहद कब और कैसे नहीं खाना चाहिए :-

शहद गर्म होने पर बनता है जहर

शहद का सेवन करना चाहते है तो सबसे बढ़िया है की आप इसे ऐसे ही खाये, इसे पकाने या गर्म करने की आवश्यकता नहीं होती है। इतना ही नहीं शहद को कभी भी गरमा गर्म पानी, दूध या किसी भी गरमा गर्म वस्तु में मिलाकर नहीं खाना चाहिए। अगर आप शहद को गर्म करके य गरमा गर्म वस्तु के साथ प्रयोग करते है तो यह आपकी सेहत को बिगाड़ सकता है। गर्म करने पर शहद जहर बन जाता है और शरीर को नुकसान पहुंचाता है।

कुछ लोग यह कहेंगे की आयुर्वेदा का बहुत ही प्रसिद्ध घरेलु नुस्खा है जिसमे सुबह खाली पेट गर्म पानी में कागजी निम्बू और शहद मिलाकर सेवन करने की सलाह दी गई है, तो क्या वो गलत है ? नहीं दोस्तों, वह गलत नहीं है लेकिन उसमे गरमा गर्म पानी में निम्बू और शहद नहीं मिलाना बल्कि हल्के गर्म पानी, जितने गर्म पानी को आप गटा गट पी सके, उतने गर्म पानी में निम्बू और शहद मिलाकर सेवन करना है।

शहद और घी जहर बनाता है

शहद और घी दोनों ही हमारे स्वास्थ्य के लिए अमृत के समान होते है। शहद की तरह घी भी पोषक तत्वों से भरपूर होते है। लेकिन कभी भी इन दोनों को एकसाथ मिलाकर इनका सेवन नहीं करना चाहिए। शहद और घी का मिश्रण शरीर के लिए घातक हो सकता है। यहां तक की यह जहर बन जाता है और जानलेवा हो सकता है। इतना ही नहीं शहद को किसी तैलीय व चिकने खाद्य पदार्थ के साथ मिलाकर सेवन नहीं करना चाहिए।

चाय-कॉफी के साथ ना पीएं शहद

बहुत से लोग चाय और कॉफी में शहद मिलाकर उसका सेवन करना पसंद करते है और सोचते है की यह उनके लिए फायदेमंद है। चाय और कॉफ़ी में मीठे के रूप में शहद मिलाना आपकी सेहत के लिए बहुत घातक हो सकता है। चाय और कॉफी, दोनों ही गर्म तासीर वाली चीजे है और शहद इनमे मिलाकर पीने पर शहद इनकी तासीर को और भी अधिक गर्म कर देगा। इस मिश्रण की तासीर इतनी गर्म हो जायगी की शरीर उसे सह नहीं पाएगा और व्यक्ति बीमार हो जायगा।

समान मात्रा में न मिलाये पानी और दूध शहद के साथ

पानी या दूध के साथ शहद का सेवन करते समय इस बात का ध्यान रखे कि दूध और शहद तथा पानी और शहद समान मात्रा यानि बराबर मात्रा में मिलाकर, उनका सेवन नहीं करना चाहिए। आप 1 गिलास पानी या 1 गिलास दूध में सिर्फ 1 चम्मच शहद का ही प्रयोग करें। शहद को बराबर मात्रा में पानी या दूध के साथ मिलाने से शहद जहर बन जाता है।

मूली के साथ शहद

शहद और मूली, दोनों के सेवन में तकरीबन एक घंटे का अंतर जरूर होना चाहिए । शहद और मूली विरुद्ध आहार है और जब भी शहद और मूली का सेवन एकसाथ करते है तो हमारे शरीर में टॉक्सिन्स का निर्माण होने लगता है। इसकी वजह से शरीर को नुकसान पहुँचता है और व्यक्ति के बीमार होने का खतरा बढ़ जाता है।

अधिक मात्रा में शहद का सेवन है हानिकारक

अति हर चीज की बुरी होती है और शहद तो एक आयुर्वेदिक औषधि है। इसका एक समय पर अधिक मात्रा में सेवन करना हानिकारक हो सकता है। अगर आप चाहते है की यह औषधि आपके लिए फायदेमंद हो तो दिन में 3 बार 1 – 1 चम्मच से अधिक शहद का सेवन न करे खा सकते हो।

नॉन-वेज के साथ शहद बनता है जहर

मांस, मछली के साथ शहद का सेवन जहर के समान है। इसलिए कभी भी नॉन-वेज के साथ शहद मिलाकर उसका सेवन नहीं करना चाहिए। – घी, तेल, मक्खन में शहद जहर के समान है।

विषाक्त पदार्थ को खा लेने पर शहद का सेवन न करे

यदि किसी व्यक्ति ने गलती से विष यानी जहर अथवा किसी भी प्रकार का विषाक्त पदार्थ, गलती से या किसी भी वजह से खा लिया हो तो उसे शहद खिलाने से विष का प्रभाव एकदम बहुत अधिक बढ़कर व्यक्ति की तत्काल मृत्यु हो जाती है | इसका कारण हम ऊपर बता ही चुके है।

बुखार होने पर शहद से बचे

चढ़ते हुए बुखार में शहद का सेवन करना, विष यानि जहर का सेवन करने के समान होता है |

ऐसे भी शहद बनता है जहर

इतना ही नहीं शहद को बारिश के पानी में, गर्म और मसालेदार भोजन के साथ, फर्मेन्टेड पेय पदार्थ जैसे व्हिस्की, रम, ब्रांडी जैसे पेय पदार्थ के साथ कभी भी नहीं मिलाना चाहिए। साथ ही चीनी के साथ शहद मिलाना अमृत में विष मिलाने के समान है।

दोस्तों, अगली बार शहद का प्रयोग करते समय इन बातों का ध्यान रखें ताकि शहद जहर न बने।

Disclaimer

आम || Uses and Benefits of Mango in Hindi

अनार के फायदे और विभिन्न रोगो में प्रयोग की विधि की जानकारी

Ayurveda And Natural Health Tips