महिलाओं में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए?

महिलाओं में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए (Mahilao me Hemoglobin Kitna Hona Chahiye)- हीमोग्लोबिन की मात्रा महिलाओ और पुरुषो के शरीर में अलग-२ होती है। पैथ लैब की रिपोर्ट के अनुसार महिलाओं के लिए हीमोग्लोबिन की नॉर्मल रेंज 11.5 ग्राम (Hemoglobin 11.5 female) से 16.5 ग्राम लिखी होती है, लेकिन क्या यह सही है? अगर नहीं तो महिलाओं में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए? (Hemoglobin kitna hona chahiye) आइये जानते है WHO इस बारे में क्या कहता है?

महिलाओं में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए? | Female me hemoglobin kitna hona chahiye

आमतौर पर पैथ लैब की रिपोर्ट में महिलाओं के लिए हीमोग्लोबिन की नॉर्मल रेंज 11.5 ग्राम से 16.5 ग्राम लिखी होती है लेकिन डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक यह गलत है। WHO के अनुसार किसी महिला के शरीर में हीमोग्लोबिन की नॉर्मल रेंज 12 से 16 और पुरुषों के शरीर में हीमोग्लोबिन की नॉर्मल रेंज 14 से 18 के बीच होनी चाहिए।

आगे इस लेख में महिलाओं में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए (Female me hemoglobin kitna hona chahiye, हीमोग्लोबिन क्या है, हीमोग्लोबिन कम होने के क्या लक्षण है, हीमोग्लोबिन की कमी से होती हैं ये समस्याएं, महिलाओं में हीमोग्लोबिन नार्मल रेंज कितनी होनी चाहिए, Female me Hemoglobin kitna hona chahiye, प्रेगनेंसी में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए (Pregnancy me hemoglobin kitna hona chahiye), हीमोग्लोबिन की कमी से क्या होता है, महिलाओ में हीमोग्लोबिन कैसे बढ़ाये आदि विषयो पर जानकारी देने जा रहे है।

Table of Contents

हीमोग्लोबिन क्या है?

हीमोग्लोबिन, जिसे रिपोर्ट्स में एचजीबी (Hgb) के नाम से भी बताया गया होता है, लाल रक्त कोशिकाओं में मौजूद एक प्रोटीन होता है जो आयरन carry करने के कार्य करता है। यह आयरन रक्त के जरिये शरीर की कोशिकाओं और अंगो तक ऑक्सीजन पहुंचने का कार्य करता है और जिस वजह से हीमोग्लोबिन आपके रक्त का एक आवश्यक हिस्सा बन जाता है।

खून की कमी के अनेको कारण : सभी के लक्षण की जानकारी

जब आपके रक्त में पर्याप्त हीमोग्लोबिन न होने पर आपकी कोशिकाओं को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलती है और एनीमिया के लक्षण नजर आने लगते है।

डॉक्टर आपके रक्त के नमूने का विश्लेषण करके आपका रक्त में हीमोग्लोबिन के स्तर का पता लगाते है। आपके हीमोग्लोबिन के स्तर को कई तरह के कारक प्रभावित करते हैं, जिनमें आपका शामिल है:

  • उम्र
  • लिंग
  • चिकित्सा का इतिहास

हीमोग्लोबिन कम होने के क्या लक्षण है?। हीमोग्लोबिन की कमी से होती हैं ये समस्याएं

कम हीमोग्लोबिन के लक्षणों में शामिल हैं:

  • दुर्बलता
  • सांस लेने में कठिनाई
  • चक्कर आना
  • तेज़, अनियमित दिल की धड़कन
  • कानों में तेज़
  • सरदर्द
  • ठंडे हाथ और पैर
  • पीली या पीली त्वचा
  • छाती में दर्द
  • पीरियड्स के दौरान ज्यादा दर्द होना

शरीर में खून की कमी के कारण

महिलाओं में हीमोग्लोबिन | हीमोग्लोबिन नार्मल रेंज कितनी होनी चाहिए | Female me Hemoglobin kitna hona chahiye

अगर आप एक महिला है और अपने अपना हीमोग्लोबीन टेस्ट करवाया है तो आपकी रिपोर्ट में हीमोग्लोबीन लेवल 11.5 (11.5 hemoglobin female) आ रहा है और आप यह सोच कर खुश हो रही है की यह नार्मल रेंज (Female hgb range) के अंदर है तो तो खुशफहमी से बाहर आ जाइये।

पैथ लैब की रिपोर्ट में नार्मल रेंज 11.5 ग्राम से 16.5 ग्राम लिखी हुई होती है लेकिन यह गलत है क्योकि WHO के मुताबिक महिलाओ में 12 ग्राम (female hgb range) से कम हीमोग्लोबिन एनीमिया की निशानी है।

आमतौर पर पैथ लैब की रिपोर्ट में महिलाओं के लिए हीमोग्लोबिन की नॉर्मल रेंज (Normal Hgb Levels Female) कम लिखी होती है लेकिन डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक यह गलत है और इसी गलतफहमी के चलते बहुत सारी महिलाएं अपने आप को नार्मल समझकर बेहतरी के उपाय नहीं करती है।

जबकि मौजूदा समय में 90 पसेंट भारतीय महिलाएं अनीमिया की शिकार हैं, जो कई तरह की परेशानियों की वजह है। डब्ल्यूएचओ की नई रिपोर्ट के मुताबिक, हफ्ते में एक दिन आयरन खिलाकर भी अनीमिया की समस्या को काफी हद दूर किया जा सकता है।

भारतीय महिलाओं में अनीमिया का सबसे बड़ा कारण आयरन की कमी है। फिर फोलिक एसिड और b12 विटामिन की कमी जिम्मेदार है, जिसे खानपान में थोड़े बदलाव लाकर पूरा किया जा सकता है।

प्रेगनेंसी में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए? | Pregnancy me hemoglobin kitna hona chahiye

जैसा की हम ऊपर बता ही चुके है की सामान्य महिला के शरीर में हीमोग्लोबिन की नॉर्मल रेंज 12 से 16 ग्राम होना चाहिए। जबकि प्रेग्नेंट महिला के लिए शरीर में हीमोग्लोबिन की नॉर्मल रेंज 11 से 15 ग्राम होनी चाहिए, क्योंकि प्रेगनेंसी के समय रक्त में आरबीसी यानी लाल रक्‍त कोशिकाओं की संख्‍या में कमी आ जाती है और इस वजह से हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो जाता है।

प्रेग्नेंसी के दौरान यदि आपका हीमोग्लोबिन का स्तर 11 से अधिक है, तो यह बहुत अच्छी बात है। इससे नाॅर्मल डिलीवरी की चांसेस बढ़ जाते हैं।

हीमोग्लोबिन की कमी से क्या होता है?

एम्स के मेडिसिन डिपार्टमेंट के डॉ. ए. बी. डे कहते है कि अनीमिया में रक्त में रेड ब्लड सेल्स की कमी हो जाती है। यह रेड ब्लड सेल्स हार्ट तक ऑक्सीजन की सप्लाई करते है।

ऑक्सीजन की कमी के चलते थकान महसूस होती है, अचानक खड़े होने पर चक्कर आना, सिरदर्द, हाथ-पैर ठंडे रहना और त्वचा, मसूढ़ों और नाखुनो में पीलापन और सीने में दर्द आम लक्षण है।

शरीर में ऑक्सिजन कमी से निबटने के लिए हार्ट को अधिक काम करना पड़ता है, जिसके चलते एरिदमिया नमक बीमारी, हार्ट एनलार्जमेंट और कई बार हार्ट फेलियर की समस्या भी हो जाती है।

उम्र के साथ पाचन क्रिया पर असर पड़ता है। प्रेग्नेंसी के दौरान अनीमिया और भी अधिक खतरनाक हो सकता है।

महिलाओ में हीमोग्लोबिन कैसे बढ़ाये

हार्ट केयर फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ. के. के. अग्रवाल कहते है कि थोड़े से उपाय हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने के लिए भी काफी है जैसे:-

  • आयरन की कमी वाले अनीमिया में चना और गुड़ बेस्ट है।
  • पेट के कीड़े मारने के लिए एक 400 एमजी को टेबलेट लिखी जाती है, जो कि हर तीन महीने में एक बार खानी होती है।
  • खाने में फोलिक एसिड को बरकरार रखने के लिए खाना मंदी आंच पर पकाएं।
  • ड्राई फ्रूट्स जैसे खजूर, बादाम और किशमिश में पर्याप्त मात्रा में आयरन होता है। बादाम और किशमिश को भीगोकर खाना और भी ज्यादा फायदेमंद होता है।
  • चिकन, मटन और फिश और डेयरी उत्पाद विटामिन बी 12 के अच्छे स्रोत हैं। इनका सेवन विटामिन ब्१२ की कमी को पूरा करने का एक अच्छा उपाय है।
  • फोलिक एसिड की कमी को दूर करने के लिए खट्टे के रस, फलियां और गढ़वाले अनाज का सेवन करे।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

महिलाओं में हीमोग्लोबिन की मात्रा कितनी होनी चाहिए?

WHO के अनुसार किसी महिला के शरीर में हीमोग्लोबिन की नॉर्मल रेंज 12 से 16 और पुरुषों के शरीर में हीमोग्लोबिन की नॉर्मल रेंज 14 से 18 के बीच होनी चाहिए।

हीमोग्लोबिन कम होने के क्या लक्षण है?

कम हीमोग्लोबिन के लक्षणों में शामिल हैं:
दुर्बलता
सांस लेने में कठिनाई
चक्कर आना
तेज़, अनियमित दिल की धड़कन
कानों में तेज़
सरदर्द
ठंडे हाथ और पैर
पीली या पीली त्वचा
छाती में दर्द
पीरियड्स के दौरान ज्यादा दर्द होना

हीमोग्लोबिन को कैसे बढ़ाए?

हार्ट केयर फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ. के. के. अग्रवाल कहते है कि थोड़े से उपाय हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करने केलिए भी काफी है जैसे:-
आयरन की कमी वाले अनीमिया में चना और गुड़ बेस्ट है।
पेट के कीड़े मारने के लिए एक 400 एमजी को टेबलेट लिखी जाती है, जो कि हर तीन महीने में एक बार खानी होती है।
खाने में फोलिक एसिड को बरकरार रखने के लिए खाना मंदी आंच पर पकाएं।
ड्राई फ्रूट्स जैसे खजूर, बादाम और किशमिश में पर्याप्त मात्रा में आयरन होता है। बादाम और किशमिश को भीगोकर खाना और भी ज्यादा फायदेमंद होता है।
चिकन, मटन और फिश और डेयरी उत्पाद विटामिन बी 12 के अच्छे स्रोत हैं। इनका सेवन विटामिन ब्१२ की कमी को पूरा करने का एक अच्छा उपाय है।
फोलिक एसिड की कमी को दूर करने के लिए खट्टे के रस, फलियां और गढ़वाले अनाज का सेवन करे।

Disclaimer

हम उम्मीद करते है की महिलाओं में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए (Female me hemoglobin kitna hona chahiye, हीमोग्लोबिन क्या है, हीमोग्लोबिन कम होने के क्या लक्षण है, हीमोग्लोबिन की कमी से होती हैं ये समस्याएं, महिलाओं में हीमोग्लोबिन नार्मल रेंज कितनी होनी चाहिए, Female me Hemoglobin kitna hona chahiye, प्रेगनेंसी में हीमोग्लोबिन कितना होना चाहिए (Pregnancy me hemoglobin kitna hona chahiye), हीमोग्लोबिन की कमी से क्या होता है, महिलाओ में हीमोग्लोबिन कैसे बढ़ाये, विषयो पर दी गई यह जानकारी आपके लिए फायदेमंद रहेगी।

Specially For You:-

शुगर के मरीज बादाम और काजू खा सकते हैं
शुगर के मरीज बादाम और काजू खा सकते हैं
क्या शुगर के मरीज बादाम और काजू खा सकते हैं (Kya Diabetes Me Badam Aur Kaju Kha Sakte Hai ) ...
Read More
What is Appendix in Hindi
What is Appendix in Hindi
अपेंडिक्स क्या है (What is Appendix in Hindi) - अपेंडिक्स नामक अंग में होने वाली बीमारी जिसे आमतौर पर अपेंडिक्स ...
Read More
गर्मियों में आँख लाल होने पर घरेलू उपचार
गर्मियों में आँख लाल होने पर घरेलू उपचार
गर्मियों में आँख लाल होने पर घरेलू उपचार (Aankh Laal Hone Ka Ilaj)- गरमी में सूरज से निकलनेवाली हानिकारक अल्ट्रावॉयलेट किरणे ...
Read More
शुगर में भिंडी के फायदे
शुगर में भिंडी के फायदे
डायबिटीज यानि शुगर में भिंडी के फायदे (Bhindi For Diabetes in Hindi) - भिंडी जिसे आमतौर पर Ladyfinger के नाम ...
Read More
मोटापे से होने वाली समस्याएं
मोटापे से होने वाले रोग व बीमारियाँ
मोटापे से होने वाली समस्याएं (Side Effects Of Obesity In Hindi) - मोटापा एक ऐसी समस्या है जो अपने साथ ...
Read More
निर्जलीकरण यानि शरीर में पानी की कमी के लक्षण
शरीर में पानी की कमी के लक्षण
निर्जलीकरण यानि शरीर में पानी की कमी के लक्षण (Sharir Me Pani Ki Kami Ke Lakshan) - निर्जलीकरण (Dehydration in ...
Read More
नाक से खून आना
गर्मी में नाक से खून आना
गर्मी में नाक से खून आना (Garmi Me Naak Se Khun Aana )- चिलचिलाती धूप और गर्मी से नाक के ...
Read More
थायराइड का रामबाण इलाज
थायराइड का इलाज
थायराइड का रामबाण इलाज (Thayraid Ka Ramban Ilaj) - किसी भी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या का इलाज, उसके बारे में अधिक ...
Read More
डायबिटीज यानि शुगर में खीरा खा सकते हैं
जानिए शुगर में खीरा खा सकते हैं
शुगर में खीरा खा सकते हैं (Is Cucumber Good for Diabetes in Hindi) - kya sugar me kheera kha sakte ...
Read More
शुगर में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए
शुगर में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए
डायबिटीज यानि शुगर में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए (Sugar me kon sa fal nahi khana chahiye)- एक गलत ...
Read More

कमर दर्द का इलाज

पेट की गैस को जड़ से खत्म करने के उपाय

लो ब्लड प्रेशर के कारण, लक्षण और उपचार

लहसुन के फायदे, विभिन्न रोगों में उपयोग की विधि | Uses and Health Benefits of Garlic in Hindi

आम || Aam ke fayde || Uses and Benefits of Mango in Hindi

References:-

DMCA.com Protection Status